सावरा जाति  

सावरा जाति पूर्वी भारत की एक जनजाति है। इस जाति के लोगों को 'साओरा', 'सोरा' या 'सौरा' भी कहा जाता है। यह मुख्यत: उड़ीसा, मध्य प्रदेश, आन्ध्र प्रदेश तथा बिहार में पाई जाती है। इनकी कुल संख्या 3,10,000 के लगभग है, जिनमें से अधिकांश उड़ीसा में है।

  • सावरा जाति के लोग बहुत कम वस्त्र अपने शरीर पर धारण करते हैं।
  • अधिकांश सावरा लोगों ने अब हिन्दू धर्म अपना लिया है, और सामान्यत: ये उड़िया भाषा बोलते हैं।
  • इसके विपरीत पहाड़ियों पर रहने वाले लोगों में मुंडा बोली का परम्परागत स्वरूप बना हुआ है।
  • पहाड़ी अंचल के सावरा लोग व्यवसायों के आधार पर कुछ उपजनजातियों में विभाजित हैं।
  • ‘जाति’ नामक सावरा कृषक हैं, ‘आरसी’ बुनकर हैं, ‘मूली’ लुहार हैं, ‘किंडाल’ टोकरी बनाने वाले और ‘कुंबी’ कुम्हार हैं।
  • इनकी परम्परागत सामाजिक इकाई परिवार का ही एक विस्तृत रूप है, जिसमें पुरुष और स्त्रियाँ, दोनों एक ही पूर्वज के वंशज हैं।
  • सावरा जाति में स्त्रियों के अधिकतर आभूषण सस्ती धातुओं के बने होते हैं।
  • ये लोग वनों से प्राप्त घुँघचियों की माला पहनते हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सावरा_जाति&oldid=234633" से लिया गया