पुक्कुस  

पुक्कुस एक प्राचीन जाति का नाम है, जिसकी धर्मशास्त्रों में चर्चा बार-बार हुई है। इस जाति के लोगों को निम्न कुल और हीन जाति का बताया गया है। इस जाति के लोग निचले स्तर के कार्य किया करते थे। जनता का मनोरंजन आदि करना भी इनका एक पेशा था।

  • हीन व्यवसायों, कार्यों और जातियों की गणना मूलत: मौर्यपूर्व काल की मानी जाती है।
  • बुद्ध अपने भिक्षुओं को निर्देश देते हैं कि, वे भिक्षुओं की पूर्व जाति, सिप्प, कम्म आदि का हवाला देकर उन्हें अपमानित न करें और इस प्रकार संघ में भेदभाव उत्पन्न न करें।
  • 'पुल्कस' और 'पुक्कुस' ऐसी आदिम जाति के ज्ञात होते हैं, जो शिकार करके या बांस की वस्तुएँ बनाकर जीवन-यापन करते थे।
  • धीरे-धीरे इस जाति को ब्राह्मण कालीन समाज में ख़ास-खास ढंग के कार्यों के लिए रखा लिया गया, यथा मन्दिर और राजमहल से फूलों को हटाना।
  • फुल हटाने के लिए वे मन्दिर के प्रसंग में प्रवेश कर सकते थे, जिससे पता चलता है कि, वे चंडाल जैसे अधम नहीं माने जाते थे।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय संस्कृति कोश, भाग-2 |प्रकाशक: यूनिवर्सिटी पब्लिकेशन, नई दिल्ली-110002 |संपादन: प्रोफ़ेसर देवेन्द्र मिश्र |पृष्ठ संख्या: 495 |

  1. शर्मा, रामशरण, शूद्रों का प्राचीन इतिहास।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पुक्कुस&oldid=295654" से लिया गया