खन्धक  

  • बौद्ध धर्म के विनयपिटक के खन्धक ग्रंथ में मठ या संघ में निवासियों के जीवन के सन्दर्भ में विधि-निषेधों की विस्तृत व्याख्या की गयी है।
  • खन्धक के दो अन्य भाग- महावग्ग एवं चुल्लवग्ग हैं।
  • महावग्ग में संघ के अत्यधिक महत्त्वपूर्ण विषयों का उल्लेख है।
  • इसमें कुल 10 अध्याय हैं।
  • चुल्लवग्ग में 12 अध्याय हैं।
  • इसमें वर्णित विषय कम महत्त्वपूर्ण हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=खन्धक&oldid=469946" से लिया गया