चैत्य गृह  

चैत्य गृह, भाजा
बौद्ध चैत्य गृह, कार्ले

चैत्य गृह को प्राय: 'गुहा मन्दिर' के नाम से भी जाना जाता है। बौद्ध धर्म में बुद्ध की मूर्ति के निर्माण का विधान न होने से बुद्ध के प्रतीक के रूप में स्तूप पूजे जाते थे। पूजार्थक स्तूप को सम्भवतः चैत्य कहा जाता था।

  • चैत्य गृह ध्यान, वन्दना आदि के लिए प्रयोग होता था। चैत्य गृहों के समीप ही भिक्षु-भिक्षुणियों के निवास के लिए विहार का भी निर्माण होता था।
  • बौद्ध परम्परा के अनुसार चैत्य गुफ़ाएँ धार्मिक पूजा-अर्चना और चिंतन-तपश्चर्या के लिए होती थीं, तो विहार धर्मोपदेश के लिए सभागृह का काम करते थे।

प्रकार

चैत्य गृह प्राय: दो प्रकार के हुआ करते थे-

  1. संरचनात्मक चैत्यगृह
  2. शैलकृत चैत्यगृह
  • शैलकृत चैत्यगृह को भी दो भागों में बाँटा जा सकता है-
  1. हीनयान परम्परा से सम्बन्धित चैत्यगृह
  2. महायान परम्परा से सम्बन्धित चैत्यगृह
  • दागोब - चैत्यों के अन्दर बने छोटे स्तूपों को दागोब कहा जाता था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=चैत्य_गृह&oldid=628967" से लिया गया