एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "०"।

साथियान ज्ञानसेकरन

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
साथियान ज्ञानसेकरन
साथियान ज्ञानसेकरन
पूरा नाम साथियान ज्ञानसेकरन
जन्म 8 जनवरी, 1993
जन्म भूमि चेन्नई, तमिलनाडु
अभिभावक माता- मलारकोडी ज्ञानसेकरन
कर्म भूमि भारत
खेल-क्षेत्र टेबल टेनिस
शिक्षा सूचना प्रौद्योगिकी में बीटेक
विद्यालय सेंट जोसेफ कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, चेन्नई
पुरस्कार-उपाधि अर्जुन पुरस्कार (2018)
प्रसिद्धि भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी
नागरिकता भारतीय
एशियन गेम्स जकार्ता, 2018 - पुरुष टीम- कांस्य पदक
राष्ट्रमंडल खेल गोल्ड कोस्ट, 2018 - पुरुष टीम - स्वर्ण पदक

बर्मिघम, 2022 - पुरुष टीम - स्वर्ण पदक
गोल्ड कोस्ट, 2018 - पुरुष डबल्स - रजत पदक
बर्मिघम, 2022 - पुरुष डबल्स - रजत पदक
गोल्ड कोस्ट, 2018 - मिश्रित डबल्स - कांस्य पदक
बर्मिघम, 2022 - पुरुष एकल - कांस्य पदक

एशियन चैम्पियनशिप दोहा, 2021 - पुरुष टीम - कांस्य पदक

दोहा, 2021 - पुरुष डबल्स - कांस्य पदक

आईटीटीएफ़ चेलेंज बेल्जियम, 2016 - पुरुष एकल - स्वर्ण पदक

स्पेन, 2017 - पुरुष एकल - स्वर्ण पदक

आईटीटीएफ़ मेजर बुडापेस्ट, 2021 - मिश्रित डबल्स - स्वर्ण पदक

चैक रिपब्लिक, 2021 - पुरुष एकल - स्वर्ण पदक
बुल्गारिया, 2017 - पुरुष डबल्स - रजत पदक

कद 5 फुट 5 इंच
कोच सुब्रमणियम रमन
अन्य जानकारी साल2017 में जीत का सिलसिला जारी रखते हुए साथियान ज्ञानसेकरन ने पुरुष एकल वर्ग में आईटीटीएफ चैलेंज-स्पेनिश ओपन, अल्मेरिया में स्वर्ण पदक जीता।
अद्यतन‎

साथियान ज्ञानसेकरन (अंग्रेज़ी: Sathiyan Gnanasekaran, जन्म- 8 जनवरी, 1993) भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी हैं। बर्मिघम, इंग्लैंड में आयोजित राष्ट्रमंडल खेल 2022 में उन्होंने देश के लिये कांस्य पदक जीता है। अप्रॅल 2018 में वह विश्व रैंकिंग में 48वें स्थान पर रहे थे। उन्होंने गोल्ड कोस्ट में आयोजित हुए 2018 राष्ट्रमण्डल खेलों की टीम स्पर्धा में अचंत शरत कमल, एंथोनी अमलराज, सनिल शेट्टी तथा हरमीत देसाई के साथ स्वर्ण, पुरुष युगल स्पर्धा में अचंत शरत कमल के साथ रजत तथा मनिका बत्रा के साथ मिश्रित युगल स्पर्धा का कांस्य पदक जीता था। ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक, 2020 में टेबिल टेनिस के पुरुष एकल में साथियान ज्ञानसेकरन पुरुष एकल में हांगकांग, चीन के सिउ हैंग लैम के खिलाफ राउंड 2 मैच 11-7, 7-11, 4-11, 5-11, 11-9, 12-10, 11-6 से हार गए थे।

प्रारंभिक जीवन

चेन्नई, तमिलनाडु में एक मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मे साथियान ज्ञानसेकरन ने बहुत कम उम्र में टेबल टेनिस के खेल को पसंद किया। वह गति और स्पिन से मोहित थे। कनिष्ठ रैंकों के माध्यम से धीरे-धीरे और लगातार बढ़ते हुए वह खेल में अपना करियर बनाना चाहते थे। हालाँकि, उनके माता-पिता चाहते थे कि वह इंजीनियरिंग का एक सुरक्षित मार्ग अपनाए। विनम्रतापूर्वक अपने माता-पिता की इच्छा का पालन करते हुए साथियान ज्ञानसेकरन ने सेंट जोसेफ कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, चेन्नई से सूचना प्रौद्योगिकी में डिग्री के साथ स्नातक की उपाधि प्राप्त की। उनके पिता ज्ञानशेखरन देश से बाहर काम कर रहे थे। उनके घर के पास ही टीटी कोचिंग सेंटर शुरू हो गया था। पांच साल की उम्र में ही साथियान ज्ञानसेकरन की मां मलारकोडी उन्हें अपने साथ ले गईं। उस समय उनके पहले कोच वी. चंद्रशेखर और अशोक कुमार ने साथियान की मां को उन्हें खेल में डालने के लिए मना लिया था, जब वह टेबल की ऊंचाई तक नहीं थे।[1]

गुरु

साथियान ज्ञानसेकरन के अविश्वसनीय कारनामे के इंजीनियर उनके कोच एस. रमन हैं, जो भारत के पूर्व ओलंपियन और राष्ट्रीय चैंपियन हैं। साथियान ने एक बार कहा था, "रमन और मैं एक बेहतरीन कॉम्बो हैं क्योंकि हम दोनों को हर दिन चुनौती देना पसंद है और हम उन चुनौतियों से पार पाने के लिए एक साथ काम करते हैं। चार साल हो गए हैं जब मैं उनके अधीन प्रशिक्षण ले रहा हूं और उन्होंने मेरे खेल को पूरी तरह से बदल दिया है"। अपने पहले से मौजूद चुनौतीपूर्ण डिफेंस में दोनों पक्षों से एक मजबूत आक्रमण जोड़ते हुए साथियान एक बहुमुखी खिलाड़ी के रूप में उभरे हैं।

उपलब्धियाँ

  • सितंबर 2016 में साथियान ज्ञानसेकरन ने बेल्जियम ओपन टेबल टेनिस का खिताब जीता।
  • वह आईटीटीएफ़ इवेंट जीतने वाले दूसरे भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी बने।
  • उन्होंने 2017 में आईटीटीएफ़ चैलेंज-थाईलैंड, आईटीटीएफ़ चैलेंज-बेल्जियम, आईटीटीएफ़ मेजर-स्वीडिश में कांस्य जीता
  • साथियान ज्ञानसेकरन ने 2017 में युगल पुरुष वर्ग में आईटीटीएफ मेजर-बुल्गारिया में रजत पदक जीता।
  • 2017 में जीत का सिलसिला जारी रखते हुए उन्होंने पुरुष एकल वर्ग में आईटीटीएफ चैलेंज-स्पेनिश ओपन, अल्मेरिया में स्वर्ण पदक जीता।
  • वह एशियाई खेल, 2018 में भारतीय दल का हिस्सा थे जिसने रजत पदक जीतकर इतिहास रच दिया।[1]

राष्ट्रमंडल खेल, 2022

साथियान ज्ञानसेकरन ने बर्मिंघम में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 के आखिरी दिन टेबल टेनिस के पुरुष एकल मुकाबले में इंग्लैंड के पॉल ड्रिंकहॉल को 11-9, 11-3, 11-5, 8-11, 9-11, 10-12, 11-9 से मात देकर कांस्य पदक अपने नाम किया। टेबल टेनिस में यह भारत के लिए यह तीसरा पदक रहा। शुरुआती तीन गेम जीतने के बावजूद पदक के लिए साथियान ज्ञानसेकरन को कड़ी मशक्कत करनी पड़ी, जहां उनके प्रतिद्वंदी ने तीन गेम जीतकर दमदार वापसी की थी। आखिरी गेम में भी ड्रिंकहॉल ने सात अंकों से पिछड़ने के बावजूद स्कोर 8-8 से बराबर कर दिया था।

राष्ट्रमंडल खेल 2022 में ही टेबल टेनिस के पुरुष युगल में भारतीय अचंत शरत कमल और साथियान ज्ञानसेकरन की जोड़ी ने रजत पदक जीता। शरत और साथियान को नेशनल एग्जीबिशन सेंटर में पॉल ड्रिकहॉल और लियाम पिचफोर्ड की जोड़ी से लगातार दूसरे राष्ट्रमंडल खेल के फाइनल मुकाबले में 3-2 (11-8, 8-11, 3-11, 11-7, 4-11) से हार का सामना करना पड़ा था। पहले गेम में भारतीय जोड़ी ने अच्छा खेलते हुए 11-8 से जीत दर्ज की। वहीं, विरोधी जोड़ी ने वापसी करते हुए दूसरा गेम अपने नाम कर लिया। इसके बाद तीसरा गेम काफी रोमांचक हो गया और इंग्लैंड की जोड़ी ने इसमें 2-1 की बढ़त हासिल कर ली। लेकिन चौथे गेम में भारतीय जोड़ी ने वापसी करते हुए मुकाबले को निर्णायक गेम तक पहुंचाया। इंग्लिश जोड़ी के लिए पांचवां गेम बहुत ही आसान रहा। दोनों जोड़ियों ने एक-दूसरे को टक्कर देनी की कोशिश की लेकिन भारतीय जोड़ी ने कई मौके गंवाए और इसका फायदा उठाकर घरेलू जोड़ी ने मुकाबले में अपनी पकड़ मजबूत करते हुए स्वर्ण पदक जीत लिया। जबकि भारतीय जोड़ी को रजत पदक से ही संतोष करना पड़ा।

ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक, 2020

टोक्यो, जापान में आयोजित ग्रीष्मकालीन ओलम्पिक, 2020 में टेबिल टेनिस के पुरुष एकल में साथियान ज्ञानसेकरन का अभियान जल्द समाप्त हो गया। वह अपने पुरुष एकल में हांगकांग, चीन के सिउ हैंग लैम के खिलाफ राउंड 2 मैच 11-7, 7-11, 4-11, 5-11, 11-9, 12-10, 11-6 से हार गए। साथियान ज्ञानसेकरन सात सेटों तक जूझते रहे। अंतत: उन्हें हार का सामना करना पड़ा। साथियान ने खेल 3 और 4 में अपना प्रभार जारी रखा और परिणामस्वरूप उन्होंने 3-1 की बढ़त बना ली और वह अगले दौर में आगे बढ़ने से सिर्फ एक गेम दूर थे। लेकिन गेम 5 में सिउ हैंग ने जोरदार वापसी की और वह साथियान को पीछे करने में सफल रहे। परिणामस्वरूप मैच समाप्त नहीं हुआ और यह छठे राउंड में आगे बढ़ गये। सिउ हैंग ने अपनी गति के साथ चार्ज किया और परिणामस्वरूप मैच फाइनल और निर्णायक राउंड 7 तक पहुंच गया। साथियान अंतिम गेम में बने रहने में सक्षम नहीं रहे और परिणामस्वरूप वह बाहर हो गए।[2]

पुरस्कार

  1. साथियान ज्ञानसेकरन को टीओआईएसए टेबल टेनिस प्लेयर ऑफ द ईयर अवार्ड, 2018 (जूरी पसंद) से सम्मानित किया गया है।
  2. उन्हें साल 2018 में अर्जुन पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 जी साथियान जीवनी (हिंदी) kreedon.com। अभिगमन तिथि: 11 अगस्त, 2021।
  2. टेबिल टेनिस के पुरुष एकल में साथियान ज्ञानसेकरन का अभियान समाप्त (हिंदी) hindi.news24online.com। अभिगमन तिथि: 11 अगस्त, 2021।

संबंधित लेख