एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "०"।

रानी रामपाल

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
रानी रामपाल
रानी रामपाल
पूरा नाम रानी रामपाल
जन्म 4 दिसम्बर, सन 1994
जन्म भूमि कुरुक्षेत्र, हरियाणा
कर्म भूमि भारत
खेल-क्षेत्र हॉकी
पुरस्कार-उपाधि राजीव गाँधी खेल रत्न, 2020

पद्म श्री, 2020

प्रसिद्धि भारतीय महिला हॉकी खिलाड़ी
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी रानी रामपाल छह साल की उम्र में शहर की हॉकी टीम में शामिल हो गईं। 2003 में उन्होंने शाहबाद हॉकी अकादमी में प्रशिक्षण शुरू किया। यहां उनकी मुलाकात उस शख्स से हुई, जिसने उनकी जिंदगी बदल दी
अद्यतन‎

रानी रामपाल (अंग्रेज़ी: Rani Rampal, जन्म- 4 दिसम्बर, 1994) भारतीय हॉकी खिलाड़ी और भारत की महिला हॉकी टीम की कप्तान हैं। 15 साल की उम्र में ही वह 2010 विश्व कप में भाग लेने वाली राष्ट्रीय टीम की सबसे कम उम्र की खिलाड़ी रहीं। रानी रामपाल ने अपनी स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद बीए में एडमिशन लिया लेकिन अभ्यास के कारण पढ़ाई रह गई। वह अपनी टीम में सबसे आगे खेलती हैं। उन्होंने 212 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं और 134 गोल किए हैं। वह एक स्ट्राइकर के रूप में भी जानी जाती हैं, जो अक्सर मिड-फील्डर के रूप में काम करती हैं। राष्ट्रमंडल खेलों से उनका काफी लगाव है। 2020 में भारत सरकार ने उन्हें राजीव गाँधी खेल रत्न और फिर पद्म श्री से सम्मानित किया है।

परिचय

रानी रामपाल का जन्म 4 दिसम्बर, सन 1994 को कुरुक्षेत्र, हरियाणा में हुआ था। वह आर्थिक रूप से कमजोर पारिवारिक पृष्ठभूमि से आती हैं। रानी के पिता रुपये की मामूली आय के साथ एक गाड़ी मजदूर के रूप में काम करते थे। उनका पूरा परिवार माता-पिता, दो भाई, उनकी पत्नियाँ और रानी- एक झोंपड़ी में रहता था। रानी रामपाल की एक ही इच्छा थी, अपने परिवार की स्थिति को ऊपर उठाने की।[1]

संघर्ष

ऐसे राज्य से आना जहां लड़कियों को पैदा होने से पहले ही मार दिया जाता था, खेलों में करियर बनाना और भी मुश्किल है। उसके ऊपर, रानी का शहर, शाहाबाद मारकंडा, तुलनात्मक रूप से अधिक रूढ़िवादी था। तीन साल तक रानी ने अपने माता-पिता को समझाने की अथक कोशिश की। वे चिंतित थे कि रानी परिवार का नाम बदनाम कर देगी। उसे हॉकी खेलते समय शॉर्ट स्कर्ट पहननी होगी। सौभाग्य से माता-पिता ने सामाजिक दबाव को छोड़ दिया और अपनी बेटी को उसके सपने का पीछा करने दिया।

रानी रामपाल छह साल की उम्र में शहर की हॉकी टीम में शामिल हो गईं। 2003 में उन्होंने शाहबाद हॉकी अकादमी में प्रशिक्षण शुरू किया। यहां उनकी मुलाकात उस शख्स से हुई, जिसने उनकी जिंदगी बदल दी। द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेता कोच बलदेव सिंह ने रानी का समर्थन किया और उनके लिए भगवान के बराबर हैं। हालांकि, जरूरत पड़ने पर वह बेहद सख्त थे। रानी रामपाल ने एक उदाहरण साझा किया था, जहां वह अभ्यास के लिए सिर्फ 2 मिनट लेट थीं और सिंह ने उसे 200 रुपये का जुर्माना देने के लिए कहा। रानी के लिए यह तब बहुत बड़ी रकम थी, क्योंकि उनके पिता सिर्फ 100 रुपये प्रतिदिन कमाते थे। रानी ने वो 100 रुपये सिंह को दिए और माफी मांगी। सिंह ने दिन के अंत में अतिरिक्त 100 रुपये के साथ पैसे लौटा दिए और रानी इतनी प्रभावित हुईं कि उन्हें फिर कभी किसी अभ्यास सत्र के लिए देर नहीं हुई।[1]

कॅरियर

उस समय परिवार के लिए समय इतना कठिन था कि उनके पास एक उचित घड़ी भी नहीं थी। रानी की माँ बहुत जल्दी उठ जाती थीं ताकि रानी सुबह 5 बजे अपने अभ्यास सत्र में पहुँच सकें। रानी को अपने विद्यालय में हस्त लेखन प्रतियोगिता में पुरस्कार के रूप में घड़ी जीतने का अवसर मिला। दुर्भाग्य से उनकी लिखावट अच्छी नहीं थी, लेकिन उसने अभ्यास करना जारी रखा और अपनी माँ के लिए घड़ी जीत ली। उनकी माँ की शांतिपूर्ण नींद सभी प्रयासों के लायक थी।

  1. साल 2009 में रानी रामपाल ने रूस में हुए चैंपियंस चैलेंज टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था। वह शीर्ष स्कोरर होने के साथ-साथ यंग प्लेयर ऑफ़ द टूर्नामेंट पुरस्कार विजेता भी थीं। उन्होंने टीम की जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और 4 गोल किए।
  2. 2009 के एशिया कप में रजत पदक उनके लिए एक और रोमांचक उपलब्धि थी।
  3. रानी रामपाल ने 2010 विश्व कप में टूर्नामेंट के सर्वश्रेष्ठ युवा खिलाड़ी का पुरस्कार जीता। वह तब सिर्फ 15 साल की थीं और विश्व कप में भाग लेने वाली राष्ट्रीय टीम की सबसे कम उम्र की खिलाड़ी बन गईं। उसने टूर्नामेंट में 7 गोल किए।[1]
  4. 2013 के जूनियर विश्व कप में भी रानी को प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट घोषित किया गया था।
  5. 2017 में टीम ने एक बार फिर जापान के काकामीगहारा में आयोजित एशियाई कप जीता।
  6. वर्ष 2018 रानी रामपाल के लिए वास्तव में विशेष था, क्योंकि टीम ने एशियाई खेलों में रजत पदक जीता था।

सर्वश्रेष्ठ महिला हॉकी खिलाड़ी

रानी रामपाल निस्संदेह देश की सर्वश्रेष्ठ महिला हॉकी खिलाड़ी और दुनिया की सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक हैं। अपने राष्ट्रीय करियर की शुरुआत से ही उन्होंने लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है और देश का नाम रौशन किया है। वह एक स्ट्राइकर के रूप में खेलती हैं और अपनी बिजली की गति और तारकीय छड़ी के काम के लिए जानी जाती हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 रानी रामपाल जीवनी (हिंदी) kreedon.com। अभिगमन तिथि: 02 दिसम्बर, 2021।

संबंधित लेख