आक्टेव क्रेमैंजी  

आक्टेव क्रेमैंजी (1822-1879 ई.) कनाडा का कवि। 8 नवंबर, 1822 ई. को क्वेवेक में जन्म और वहाँ शिक्षा। 1848 ई. में उसने अपने दो भाइयों के सहयोग से एक किताब की दुकान खोली जो एक प्रकार से साहित्यकारों का अड्डा बना। वहाँ से उसने ‘ले स्वायरे’ कनेडियस नामक पत्रिका निकाली जिसका उद्देश्य फ्रांसीसी कनाडा के लोकगीतों को संगृहीत करना था ताकि वे लुप्त न हो जायँ। क्रेमैजी ने स्वयं अपनी कविताएँ 1854 ई. से ‘जर्नल द क्यूबेक’ में प्रकाशित करना आरंभ किया। 1863 ई. में वह कतिपय व्यापारिक कठिनाइयों में पड़ गया और कनाडा छोड़कर फ्रांस चला गया जहाँ उसका सारा जीवन दरिद्रतापूर्ण बीता। इस काल में उसने जूल्स फांटने के छद्म नाम से कविताएँ लिखीं। इस काल में उसने एक नैराश्यपूर्ण लंबी कविता लिखी और ‘पेरिस के घेरे’ पर जिसे उसने आँखों देखा था एक खंड काव्य लिखा। उसकी कविताएँ कनाडा की राष्ट्रीयता और कनाडा की प्राकृतिक छवि से ओतप्रोत हैं। हार्वे में 16 जनवरी, 1879 ई. को उसकी मृत्यु हुई।[1]



पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

कृष्णा सोबती · निर्मला जैन · मन्नू भंडारी · उषा प्रियंवदा · मृणाल पाण्डे · ममता कालिया · मृदुला गर्ग · राजी सेठ · पुष्पा भारती · चित्रा मुद्गल · नासिरा शर्मा · सूर्यबाला · मैत्रेयी पुष्पा · चंद्रकांता · सुनीता जैन · रमणिका गुप्ता · अलका सरावगी · मालती जोशी · कृष्णा अग्निहोत्री · मेहरुन्निसा परवेज · सरोजनी प्रीतम · गगन गिल · सुषम बेदी · प्रभा खेतान ·नीलम सक्सेना चंद्रा · निर्मला देशपांडे · अचला नागर · सरस्वती प्रसाद · पूर्णिमा वर्मन · रश्मि प्रभा · कमला दास · सुमित्रा कुमारी सिन्हा · स्नेहमयी चौधरी · वेदवती वैदिक


अनामिका · फ़िरदौस ख़ान · ज्योत्स्ना मिलन · प्रीति सिंह · वंदना गुप्ता · किरण मिश्रा · कीर्ति चौधरी · सीमा सिंघल 'सदा' · डेम अगाथा क्रिस्टी

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हिन्दी विश्वकोश, खण्ड 3 |प्रकाशक: नागरी प्रचारिणी सभा, वाराणसी |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 221 |

संबंधित लेख