एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "०"।

एम. टी. वासुदेव नायर

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
एम. टी. वासुदेव नायर
एम. टी. वासुदेव नायर
पूरा नाम मदथ थेकेपट्टु वासुदेवन नायर
जन्म 15 जुलाई, 1933
जन्म भूमि पट्टांबी तालुक, पलक्कड़ जिला (पालघाट), मद्रास
पति/पत्नी प्रमीला (तलाकशुदा)

कलामंदलम

कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र मलयालम साहित्य
भाषा मलयालम भाषा
विद्यालय विक्टोरिया कॉलेज, पलक्कड
पुरस्कार-उपाधि ज्ञानपीठ पुरस्कार, 1995

पद्म भूषण, 2005
साहित्य अकादमी पुरस्कार, 1970
जे.सी. डैनियल अवार्ड, 2013

प्रसिद्धि उपन्यासकार, लघुकथा लेखक, बाल कथाकार, निबंधकार
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी सन 1988 में 'मातृभूमि' के सभी प्रकाशनों के संयुक्त संपादक के प्रतिष्ठित पद पर एम. टी. वासुदेव नायर की नियुक्ति हो गई थी।
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

मदथ थेकेपट्टु वासुदेवन नायर (अंग्रेज़ी: Madath Thekkepaattu Vasudevan Nair, जन्म- 15 जुलाई, 1933) मलयालम में लिखने वाले प्रसिद्ध साहित्यकार थे। उन्हें 1995 में 'ज्ञानपीठ पुरस्कार' से सम्मानित किया गया था। उनके द्वारा रचित एक उपन्यास 'कालम' के लिये उन्हें सन 1970 में 'साहित्य अकादमी पुरस्कार' से सम्मानित किया गया। 1956 में मलयालम के प्रतिष्ठित सप्ताहिक 'मातृभूमि' में सह संपादक के पद पर एम. टी. वासुदेव नायर को नियुक्ति मिली। 1968 में संपादक बन गए। 1981 में सेवानिवृत्ति के बाद साहित्य सृजन में संलग्न रहे। 1988 में 'मातृभूमि' के सभी प्रकाशनों के संयुक्त संपादक के प्रतिष्ठित पद पर उनकी नियुक्ति हो गई। फिल्म वित्तीय निगम, फिल्म सेंसर बोर्ड, फिल्म इंस्टीट्यूट, केरल साहित्य अकादमी (अध्यक्ष), केरल साहित्य अकादमी (सदस्य) आदि संस्थाओं से एम. टी. वासुदेव नायर का संबंध रहा।

परिचय

एम. टी. वासुदेव नायर को लोकप्रिय रूप से 'एमटी' कहा जाता है। वह भारतीय लेखक, पटकथा लेखक और फिल्म निर्देशक हैं। वे आधुनिक मलयालम साहित्य में विपुल और बहुमुखी लेखक हैं। उनका जन्म कुदल्लुर में हुआ था, जो वर्तमान समय में एक छोटे से गाँव अनकरा पंचायत में पट्टांबी तालुक, पलक्कड़ जिला (पालघाट), मद्रास प्रेसीडेंसी ब्रिटिश राज में मालाबार जिला के तहत था।[1]

लेखन

एम. टी. वासुदेव नायर ने 20 साल की उम्र में रसायन विज्ञान स्नातक के रूप में ख्याति अर्जित की, उन्होंने द न्यू यॉर्क हेराल्ड ट्रिब्यून द्वारा आयोजित विश्व लघु कथा प्रतियोगिता में मलयालम में सर्वश्रेष्ठ लघु कहानी के लिए पुरस्कार जीता। उनका डेब्यू उपन्यास नालुकेट्टू (पैतृक घर- अंग्रेजी में द लिगेसी के रूप में अनुवादित), 23 साल की उम्र में लिखा गया। केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार, 1958 में जीता। एम. टी. वासुदेव नायर के अन्य उपन्यासों में 'मंजू' (धुंध), 'कालम' (समय), 'असुरविथु' (द प्रोड्यूगल सोन - अंग्रेजी का अनुवाद द डेमन सीड) शामिल हैं।

रचनाएँ

अपने शुरुआती दिनों के गहरे भावनात्मक अनुभव एमटी के उपन्यासों के निर्माण में चले गए हैं। उनकी अधिकांश रचनाएँ मूल मलयालम परिवार की संरचना और संस्कृति की ओर उन्मुख हैं और उनमें से कई मलयालम साहित्य के इतिहास में पथ-प्रदर्शक थे। केरल में मातृसत्तात्मक परिवार में जीवन पर उनके तीन मौलिक उपन्यास हैं- 'नालुकेतु', 'असुरविथु', और 'कालम'। 'रंधामूझम', जो भीमसेना के दृष्टिकोण से महाभारत की कहानी को रिटायर करता है, को व्यापक रूप से उनकी उत्कृष्ट कृति के रूप में श्रेय दिया जाता है।

पटकथा लेखक और निर्देशन

एम. टी. वासुदेव नायर मलयालम फिल्मों के एक पटकथा लेखक और निर्देशक भी हैं। उन्होंने सात फिल्मों का निर्देशन किया है और लगभग 54 फिल्मों के लिए पटकथा लिखी है। उन्होंने सर्वश्रेष्ठ पटकथा के लिए 'राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार' चार बार जीता है, जो कि पटकथा श्रेणी में किसी के द्वारा सबसे अधिक है।। वह चार फ़िल्में हैं[1]-

  1. 'ओरु वडक्कन वीरगाथा' (1989)
  2. 'कदावु' (1991)
  3. 'सदायम' (1992)
  4. 'परिनयम' (1994)

पुरस्कार

  • सन 1995 में मलयालम साहित्य में उनके समग्र योगदान के लिए उन्हें भारत में सर्वोच्च साहित्यिक 'ज्ञानपीठ पुरस्कार' से सम्मानित किया गया।
  • 2005 में भारत का तीसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'पद्म भूषण' उन्हें प्रदान किया गया।
  • उन्होंने केंद्र साहित्य अकादमी पुरस्कार, केरल साहित्य अकादमी पुरस्कार, वायलार पुरस्कार, वल्लथोल पुरस्कार सहित कई अन्य पुरस्कार और मान्यता प्राप्त की है।
  • उन्हें वर्ष 2013 के लिए मलयालम सिनेमा में जीवन भर की उपलब्धि के लिए 'जे.सी. डैनियल अवार्ड' से सम्मानित किया गया।
  • एम. टी. वासुदेव नायर ने कई वर्षों तक मातृभूमि इलस्ट्रेटेड वीकली के संपादक के रूप में काम किया।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 एम. टी. वासुदेवन नायर (हिंदी) hindikahani.hindi-kavita.com। अभिगमन तिथि: 29 सितंबर, 2021।

संबंधित लेख