राधाकांत देव  

राधाकांत देव (अंग्रेज़ी: Radhakanta Deb) अनेक भाषाओं के विद्वान, हिन्दू संस्कृति के संरक्षण के पक्षधर एवं विचारक थे। उन्होंने 'शब्दकल्पद्रुम' नामक संस्कृत के आधुनिक महाशब्दकोश की रचना की।

संक्षिप्त परिचय

  • सर राजा राधाकांत देव का जन्म 1794 ईस्वी[1] में बंगाल में हुआ था।
  • वे अपने समय में सनातनी हिंदुओं के मान्य नेता थे। वीर पाश्चात्य विचारों के उपयोगी तत्वों को स्वीकार करते हुए भी अपनी प्राचीन मान्यताओं पर पूरी आस्था रखते थे।
  • उन्होंने कोलकाता में हिंदू स्कूल की स्थापना में पूरा सहयोग दिया जिससे यहां के छात्र अंग्रेज़ी भाषा और पाश्चात्य विधाओं का ज्ञान अर्जित कर सकें।
  • राधाकांत देव ने छात्रों को कम मूल्य पर पुस्तकें उपलब्ध कराने की व्यवस्था की।
  • राधाकांत देव का एक बड़ा योगदान संस्कृत का शब्दकोश 'शब्दकल्पद्रुम' है। यह उनकी विद्वता का परिचायक है।
  • 1867 ईस्वी में राधाकांत देव का देहांत हो गया।[1]



टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 पुस्तक- भारतीय चरित कोश | लेखक- लीलाधर शर्मा 'पर्वतीय' | पृष्ठ संख्या-718

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=राधाकांत_देव&oldid=627514" से लिया गया