कुभा  

कुभा अफ़ग़ानिस्तान का वैदिक नाम-

'त्वं सिंधो कुभयागोमतीं क्रमुं मेहत्न्या सरथंयाभिरीयसे।'[1]
  • कुभा में उत्तर की ओर 'सुवास्तु'[2] तथा दक्षिण की ओर 'क्रुमु'[3] और गोमती[4] मिलती है।
  • काबुल नगर 'काबुल' या 'कुभा' के तट पर ही बसा है।
  • काबुल का नाम संभवत: 'कुभाकूल'[5] से बिगड़ कर बना है।
  • चीनी यात्री सुंगयुन (520 ई. के लगभग) ने भारत की यात्रा के वृत्तांत में काबुल के देश का नाम 'किपिन' लिखा है। यह नाम संभवत: कुभा का ही रूपांतर है।
  • कुभा का पाठांतर 'कुंभा' भी मिलता है।
  • कुभा नदी काबुल नगर से 37 मील दूर सीरे चश्मा के सोते से निकलती है, जो कोहीबाबा पर्वत के नीचे है।[6]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. ऋग्वेद, 10, 75-76 (नदी-सूक्त)
  2. =स्वात
  3. =कुरुम
  4. =गोमल
  5. यथा गोमल=गोमल कूल
  6. ऐतिहासिक स्थानावली |लेखक: विजयेन्द्र कुमार माथुर |प्रकाशक: राजस्थान हिन्दी ग्रंथ अकादमी, जयपुर |पृष्ठ संख्या: 202 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कुभा&oldid=503629" से लिया गया