पार्थिया  

पार्थ या पार्थिया (अंग्रेज़ी: Parthia) बैक्ट्रिया के पश्चिम और कैस्पियन सागर के दक्षिण पूर्व में स्थित एक ऐतिहासिक प्रदेश था, जिसके निवासी जातीय दृष्टि से ग्रीक लोगों से सर्वथा भिन्न थे।

  • यहाँ कभी पार्थी लोग अपना साम्राज्य चलाया करते थे, जो 247 ईसा पूर्व से 224 ईसवी तक चला। इस साम्राज्य को 'अशकानी साम्राज्य' के नाम से भी जाना जाता है।
  • सीरियन साम्राज्य की निर्बलता से लाभ उठाकर पार्थी लोगों ने विद्रोह कर दिया था और 248 ई. पू. के लगभग स्वतंत्र पार्थियन राज्य की स्थापना हुई।
  • पार्थियन लोगों के इस विद्रोह के नेता 'अरसक' और 'तिरिदात' नामक दो भाई थे। इन भाइयों ने धीरे-धीरे पार्थियन राज्य की शक्ति को बहुत बढ़ा लिया, और कुछ समय बाद सम्पूर्ण ईरान उनकी अधीनता में आ गया।

 

पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पार्थिया&oldid=494363" से लिया गया