Makhanchor.jpg भारतकोश की ओर से आप सभी को कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ Makhanchor.jpg

ग्वाटिमाला  

ग्वाटिमाला (अंग्रेज़ी:Guatemala) मध्य अमरीका का सर्वोत्तरी गणराज्य, जो मध्य अमरीकी देशों में क्षेत्रफल की दृष्टि से द्वितीय[1] तथा जनसंख्या की दृष्टि से प्रथम[2] है। प्रशांत महासागरीय तथा कैरीबियन सागरीय तटों की लंबाई क्रमश: लगभग 200 तथा 70 मील है। यातायात का अभाव इस गणराज्य की प्रगति में मुख्य बाधा है।

भौगोलिक संरचना

ग्वाटिमाला का लगभग दो तिहाई भाग ज्वालामुखीय तथा पर्वतीय है। लगभग 200 मील लंबा तथा 30 मील चौड़ा समुद्रतटीय मैदान प्रशांत महासागर के समांतर फैला है। इसके बाद समुद्र तल से 300-4500 फुट ऊँचा पर्वत पदीय पठारी भाग है। यहाँ 8000-10,000 फुट ऊँची सियरा मेडर नामक पर्वत श्रेणियाँ हैं, जिनमें बहुत से ज्वालामुखीय शिखर हैं। इन ज्वालामुखीय शिखरों के नाम इस प्रकार हैं[3]-

  1. ताहू मूल्को - 13,812
  2. टैकना - 13,333
  3. एकाटेनागो - 12,992
  4. फ्वेगो - 12,581
  5. सांता मेरिया - 12,362
  6. आग्वा - 12,310

इन ज्वालामुखीय शिखरों के करण यहाँ बहुधा भूकंप हुआ करते हैं।

उपजाऊ घाटियाँ

इन अंतर्पर्वतीय भागों में स्थित घाटियाँ अत्यंत उपजाऊ हैं। इस क्षेत्र की जनसंख्या का वितरण, आवासक्रम, स्थापत्य कला तथा आर्थिक प्रगति पर इन ज्वालामुखी पर्वतों का प्रचुर प्रभाव दिखाई दता है। उत्तर में कैरीबियन सागर का तटवर्ती नीचा मैदान है, जो पहले 'माया सभ्यता' का केंद्र था। यह भाग अधिकांशत: वनाच्छादित है।

उद्योग धंधे

ग्वाटिमाला में कृषि प्रमुख व्यवसाय है। स्थानीय उपयोग के लिये मक्का, गन्ना, धान, गेहूँ विभिन्न किस्म की सेमें, फल तथा तंबाकू आदि पैदा किए जाते हैं। कहवा, केला, कपास, मनीला तेल, कोको तथा लकड़ियाँ प्रमुख निर्यात वस्तु हैं। पशु, भेड़, बकरियाँ, सूअर तथा मुर्गी पालन भी प्रमुख व्यवसाय हैं। सन 1948 में कुल राष्ट्रीय उत्पादन का केवल 14 प्रतिशत उद्योग धंधे से प्राप्त हुआ। ये उद्योग भोज्य-सामग्री, कपड़ों, तंबाकू, इमारती सामन तथा लकड़ियों आदि से संबंधित हैं। लगभग 65 प्रतिशत भूमि वनाच्छादित है।[3]

खनिज पदार्थ

खनिज पदार्थों में सोना, चाँदी, सीसा, जस्ता, ताँबा तथा क्रोमियम प्रमुख हैं। ऐंटीमना, लोह, स्फटिक तथा कोयला भी उपलब्ध हैं। पैटेन, अल्ता वेरापाज तथा आइजाबेल क्षेत्र में मिट्टी के तेल की संभावना है। मत्स्योत्पादन भी बढ़ रहा है।

जनसंख्या

कुल जनसंख्या का लगभग 54 प्रतिशत भारतीय तथा शेष लैडिनो है। तीन प्रमुख क्षेत्रों में- ज्वालामुखीय पर्वतीय भाग, प्रशांत महासागर तटीय मैदान तथा दक्षिण-पूर्वी भाग, जो एल सेल्वाडॉर तथा होंडुरैस से सटा है, जनसंख्या का अधिकांश भाग रहता है। ग्वाटिमाला देश की राजधानी तथा सर्वप्रमुख नगर है, जबकि द्वितीय बृहत्तम नगर कैसालटेनांगो की जनसंख्या केवल 36,209 है। अन्य नगरों में कोवान, जैकेपा, प्वेटों वैरंयोस प्रमुख हैं।

यातायात

यातायात का अभाव इस देश की प्रगति में बाधक है। कुल 720 मील रेलमार्ग है। मध्य अमरीकी अंतरराष्ट्रीय रेलमार्ग ग्वाटिमाला को मेक्सिको तथा एल सैल्वाडॉर से जोड़ता है। यहाँ कुल 4,417 मील लंबी सड़कें हैं, जो राजधानी से प्रांतीय राजधानियों को संबंधित करती हैं। प्वेटों वैरंयोस अतलांतक महासागर के किनारे सबसे बड़ा पत्तन है। प्रशांत महासागर के तट पर ओफोज, शैंपेरिको तथा सान जोज़ छोटे पत्तन हैं। नदियाँ बहुत कम परिवहनीय हैं।[3]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. 42,353 वर्ग मील
  2. 1960 में अनुमानित : 37,59,000
  3. 3.0 3.1 3.2 ग्वाटिमाला (हिन्दी)। । अभिगमन तिथि: 28 अप्रैल, 2014।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ग्वाटिमाला&oldid=609652" से लिया गया