क्षारीय लावा शंकु

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

क्षारीय लावा शंकु

जब ज्वालामुखी लावा में सिलिका की मात्रा कम होती है, जिससे वह हल्का व पतला हो जाता है तथा दूर तक फैलकर ठण्डा हो जाता है। इस कारण कम ऊँचाई व अधिक क्षेत्रीय विस्तार वाले ज्वालामुखी शंकु का निर्माण होता है। क्षारीय लावा शंकु को 'शील्ड शंकु' भी कहते हैं।

इन्हें भी देखें: पर्वत, पहाड़ी, पर्वतमाला, पर्वत कटक एवं पर्वत श्रेणी


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख