ढाल ज्वालामुखी  

ढाल ज्वालामुखी

ढाल ज्वालामुखी, जिसे 'शील्ड ज्वालामुखी' के नाम से भी जाना जाता है, ज्वालामुखियों का एक प्रकार है। इन ज्वालामुखियों का निर्माण आमतौर पर अधिकांशत: पूरी तरह से तरल लावा प्रवाह के द्वारा होता है।

  • इन ज्वालामुखियों का यह नाम इसलिए पड़ा है, क्योंकि ये देखने में किसी योद्धा की ढाल की भाँति दिखाई देते है।
  • एक ढाल के समान इन ज्वालामुखियों का आकार बड़ा और पार्श्व की ऊँचाई कम होती है।
  • ढाल ज्वालामुखियों के द्वारा उगला गया अत्यधिक तरल लावा, जो कि अन्य अधिक विस्फोटक ज्वालामुखियों से निकले लावे की तुलना में अधिक दूर तक बहता है और लावे की एक व्यापक चादर का निर्माण कर, किसी ढाल ज्वालामुखी को इसका यह विशिष्ट रूप का प्रदान करता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=ढाल_ज्वालामुखी&oldid=318754" से लिया गया