प्रवाल द्वीप  

प्रवाल द्वीप से अभिप्राय है, मुख्य स्थल से दूर स्थित प्रवाल भित्ति, जिसका ऊपरी भाग सागर के तल के ऊपर दिखायी पड़ता है। या वह प्रवाल-संहति जो किसी स्थल भाग से दूर स्थित हो, और जिसका शिखर समुद्र तल के ऊपर उठा हो।

  • प्रवाल भित्ति के निर्माण के पश्चात् सागर तल में गिरावट आने अथवा महासागरीय तली के उत्थान के परिणामस्वरूप 'प्रवाल द्वीप' की उत्पत्ति होती है।
  • सपाट प्रवाल भित्ति के ऊपर बालू के जमावों से निर्मित टीला भी पाया जा सकता है, जो सागर तल से थोड़ा ही ऊँचा होता है।
  • प्रवाल द्वीपों के ऊपर विभिन्न प्रकार की वनस्पतियाँ विकसित हो जाती हैं।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=प्रवाल_द्वीप&oldid=596200" से लिया गया