शीतोष्ण कटिबन्ध  

शीतोष्ण कटिबन्ध से अभिप्राय उस कटिबन्ध क्षेत्र से है, जो 45º से 66º उत्तरी और दक्षिणी अक्षांशों के बीच स्थित है।

  • इस क्षेत्र में सूर्य कभी भी सिर के ऊपर नहीं चमकता है।
  • यहाँ पर सूर्य की किरणें तिरछी होती हैं।
  • यही कारण है कि यहाँ ताप हमेशा कम ही रहता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=शीतोष्ण_कटिबन्ध&oldid=236625" से लिया गया