दरार (भूविज्ञान)  

दरार (अंग्रेज़ी: rift) भू-विज्ञान के अंतर्गत ऐसे क्षेत्र को कहा जाता है, जो प्लेट विवर्तनिकी (भौगोलिक तख़्तो की चाल) के कारण पृथ्वी के भूपटल और स्थलमंडल के खिचने से फटकर अलग हो रहा हो। इससे पृथ्वी पर वहाँ दरार घाटियाँ बन जाती हैं। इन घाटियों में अफ़्रीका व मध्य पूर्व की 'महान दरार घाटी' एक अच्छा उदाहरण है, जो अफ़्रीकी तख़्ते के दो भागों में टूटकर अलग होने की प्रक्रिया से निर्मित हुई थी।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=दरार_(भूविज्ञान)&oldid=477641" से लिया गया