मुक्ताभ मेघ  

मुक्ताभ मेघ अथवा 'मौक्तिक मेघ' समताप मंडल में पृथ्वी की सतह से लगभग 24 से 32 कि.मी. (15 से 20 मील) की ऊँचाई पर कभी-कभी उत्पन्न होने वाले उच्च मेघ होते हैं।

  • इस प्रकार के मेघ प्रायः हल्के और मसूराकार होते हैं।
  • मुक्ताभ मेघ अधिकांशतः उच्च अक्षांशों विशेषतः नार्वे तथा अलास्का में देखे जाते हैं।
  • इन मेघों की उपस्थिति के कारण सूर्यास्त के पश्चात् कुछ देर तक आकाश में रंगीन दीप्ति दिखाई पड़ती है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मुक्ताभ_मेघ&oldid=611995" से लिया गया