एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "२"।

ज्वालामुखी शंकु

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

ज्वालामुखी के विस्फोट से निकले लावा के जमा होने से जिस स्थलाकृति का निर्माण होता है, उसे 'ज्वालामुखी शंकु' (अंग्रेज़ी: Volcanic Cone) कहते हैं। लावा जब ज्वालामुखी छिद्र के चारों ओर क्रमशः जमा होने लगता है तो ज्वालामुखी शंकु का निर्माण होता है। जब जमाव अधिक हो जाता है तो शंकु काफी बड़ा हो जाता है और पर्वत का रूप धारण कर लेता है। इस प्रकार के शंकु को "ज्वालामुखी पर्वत" कहते हैं।

प्रकार

ज्वालामुखी लावा के उद्गार की घटती तीव्रता के आधार पर ज्वालामुखी शंकु निम्नलिखित प्रकार के होते हैं-

  1. सिंडर या राख शंकु
  2. लावा शंकु
  3. अम्लीय लावा शंकु
  4. क्षारीय लावा शंकु
  5. मिश्रित ज्वालामुखी शंकु
  6. परिपोषित शंकु

इन्हें भी देखें: पर्वत, पहाड़ी, पर्वतमाला, पर्वत कटक एवं पर्वत श्रेणी


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख