उत्रवात भूमि  

उत्रवात भूमि खड़े किनारों की भूलभूलैया से बनी भू-आकृति होती है, जिन्हें पार करना काफ़ी कठिन होता है।[1]

  • यह कृषि के लिए बहुत अधिक तीव्र वाले ढाल होते हैं।
  • इन क्षेत्रों के अध:स्तर में प्राय: मृतिका और शैल के स्तर पाये जाते हैं, जो धरातलीय नदियों और नालों द्वारा अत्यधिक विदरित होते हैं।
  • उत्खात भूमि की शैल अभेद्यता, विरल वनस्पति आवरण और अल्पकालीन किंतु भारी वर्षा से तीव्र जल बहाव के संयुक्त कारणों से विकास होता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. भौगोलिक शब्दकोश |लेखक: आर. पी. चतुर्वेदी |प्रकाशक: रावत पब्लिकेशन्स, जयपुर एवं नई दिल्ली |संकलन: भारतकोश पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 33 |

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=उत्रवात_भूमि&oldid=528256" से लिया गया