एक्स्प्रेशन त्रुटि: अनपेक्षित उद्गार चिन्ह "२"।

काँप मिट्टी

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें

काँप मिट्टी (अंग्रेज़ी: Alluvial Soil) उत्तर के विस्तृत मैदान तथा प्रायद्वीपीय भारत के तटीय मैदानों में मिलती है। यह अत्यंत ऊपजाऊ है, इसे जलोढ़ या कछारीय मिट्टी भी कहा जाता है।

  • काँप मिट्टी भारत के लगभग 40% भाग में पाई जाती है।
  • यह मिट्टी सतलुज, गंगा, यमुना, घाघरा, गंडक, ब्रह्मपुत्र और इनकी सहायक नदियों द्वारा लाई जाती है।
  • इस मिट्टी में कंकड़ नही पाए जाते हैं।
  • नाइट्रोजन, फॉस्फोरस और वनस्पति अंशों की कमी पाई इसमें जाती है।
  • खादर में ये तत्व भांभर की तुलना में अधिक मात्रा में वर्तमान हैं। इसलिए खादर अधिक उपजाऊ है।
  • भांभर में कम वर्षा के क्षेत्रों में, कहीं-कहीं खारी मिट्टी ऊसर अथवा बंजर होती है।
  • भांभर और तराई क्षेत्रों में पुरातन जलोढ़, डेल्टाई भागों नवीनतम जलोढ़, मध्य घाटी में नवीन जलोढ़ मिट्टी पाई जाती है।
  • पुरातन जलोढ़ मिट्टी के क्षेत्र को भांभर और नवीन जलोढ़ मिट्टी के क्षेत्र को खादर कहा जाता है।
  • पूर्वी तटीय मैदानों में यह मिट्टी कृष्णा, गोदावरी, कावेरी और महानदी के डेल्टा में प्रमुख रूप से पाई जाती है।
  • इस मिट्टी की प्रमुख फसलें खरीफ और रबी, जैसे- दालें, कपास, तिलहन, गन्ना और गंगा-ब्रह्मपुत्र घाटी में जूट प्रमुख से उगाया जाता है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख