कल्कि जयंती  

कल्कि जयंती
कल्कि bhagavaan
विवरण पुराणों में कल्कि अवतार के कलियुग के अंतिम चरण में आने की भविष्यवाणी की गई है। अभी कलियुग का प्रथम चरण ही चल रहा है, लेकिन अभी से कल्कि अवतार के लिए पूजा-पाठ और कर्मकांड शुरू हो चुके हैं।
तिथि श्रावण, शुक्ल पक्ष, षष्ठी
संबंधित लेख भगवान विष्णु, विष्णु सहस्रनाम, कल्कि अवतार
अन्य जानकारी शास्त्रों के अनुसार कलियुग के अंतिम दौर में भगवान विष्णु अपने दसवें अवतार के रूप में कल्कि भगवान का अवतार लेंगे। उनका यह अवतार कलियुग और सतयुग के संधि काल में होगा, जो 64 कलाओं से युक्त होगा।

कल्कि जयंती श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाई जाती है। पुराणों, धर्मग्रंथों तथा हिन्दू मान्यताओं के अनुसार भगवान विष्णु का यह अवतार कल्कि अवतार कहलाएगा।

संक्षिप्त परिचय

भगवान कल्कि के आगमन को चिह्नित करने के लिए कल्कि जयंती का त्यौहार मनाया जाता है। कल्कि, भगवान विष्णु के दसवें अवतार हैं। भगवान विष्णु के सभी 10 अवतारों में से 9, पहले ही अवतारित हो चुके हैं और केवल दसवें यानी अंतिम अवतार, भगवान कल्कि का प्रकट होना बाकी है। सत्ययुग के पुनरुत्थान और बुरे कर्मों (अधर्म) को खत्म करने के लिए भगवान महाविष्णु के कलियुग में कल्कि के रूप में आने की उम्मीद है। इसलिए दुनिया भर में उनके आगमन की उम्मीद करने और आनंद लेने के लिए यह त्यौहार देशभर में कल्कि जयंती के रूप में मनाया जाता है।

संस्कृत शब्द "कालका" नाम से 'कल्कि' उत्पन्न हुआ है। कल्कि नाम उस व्यक्ति का प्रतिनिधित्व करता है जो इस ब्रह्मांड से सभी तरह की गंदगी और कचरे को समाप्त करता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु भगवान कल्कि के रूप में प्रकट होंगे ताकि अंधेरे बलों और इस दुनिया से बुराई को दूर किया जा सके, जिससे इस ब्रह्मांड में धार्मिकता (धर्म) और शांति स्थापित हो सके।

कल्कि जन्म

शास्त्रों के अनुसार कलियुग के अंतिम दौर में भगवान विष्णु अपने दसवें अवतार के रूप में कल्कि भगवान का अवतार लेंगे। उनका यह अवतार कलियुग और सतयुग के संधि काल में होगा, जो 64 कलाओं से युक्त होगा। पुराणों के अनुसार भगवान कल्कि उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद ज़िले के संभल नामक स्थान पर विष्णुयशा नाम के एक ब्राह्मण परिवार में होगा। भगवान कल्कि सफ़ेद घोड़े पर सवार होकर पापियों का नाश करके फिर से धर्म की रक्षा करेंगे।

इस घटना का जिक्र श्रीमद्गागवत महापुराण के 12वें स्कंद के 24वें श्लोक में है, जिसके अनुसार गुरु, सूर्य और चन्द्रमा जब एक साथ पुष्य नक्षत्र में प्रवेश करेंगे तो भगवान कल्कि का जन्म होगा।

सम्भलग्राममुख्यस्य ब्राह्मणस्य महात्मनः।
भवने विष्णुयशसः कल्किः प्रादुर्भविष्यति।।


पौराणिक मान्यता के अनुसार भगवान कल्कि का अवतरण कलियुग के अन्तिम समय में होगा। इनके अवतार लेते ही सतयुग का आरम्भ होगा। भगवान कृष्ण के प्रस्थान से कलियुग की शुरुआत हुई थी। नन्द वंश के राज से कलियुग में वृद्धि हुई, वहीं भगवान कल्कि के अवतार से कलियुग का अन्त होगा। कलियुग की अवधि 4,32,000 वर्ष बताई गई है। वर्तमान में कलियुग के 5,119 साल पूरे हो चुके है।[1]

महत्त्व

  • श्रीमद् भागवत में कल्कि को भगवान विष्णु के दसवें अवतार के रूप में पहचाना जाता है जो कालियुग के वर्तमान चरण को समाप्त करने और सत्ययुग को वापस लाने के लिए प्रकट होंगे।
  • भक्त भगवान विष्णु की उनके आशीर्वाद के लिए पूजा करते हैं और प्रार्थना करते हैं और वे अपने सभी बुरे कर्मों या पापों के लिए भी क्षमा मांगते हैं।
  • शांतिपूर्ण जीवन के लिए भी भक्त प्रार्थना करते हैं और आशीर्वाद मांगते हैं, क्योंकि उन्हें यकीन नहीं होता है कि अंत कब आ जाएगा?
  • लोग अपने जीवन को दर्द रहित और शांतिपूर्ण अंत को सुनिश्चित करने के लिए इस दिन उपवास रखते हैं।
  • कल्कि को भगवान विष्णु के सबसे क्रूर अवतारों में से एक माना जाता है जो मानव जाति के अंत का प्रतीक हैं।
  • भक्त पूजा करते हैं और मोक्ष की तलाश करने के लिए उपवास रखते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि अंत निकट है और इसलिए अंत से पहले अपने पापों के लिए दया मांगने की सलाह दी जाती है।[2]
  • कल्कि देवताओं के आठ सर्वोच्च गुणों का प्रतीक है और उनका मुख्य उद्देश्य एक विश्वासहीन दुनिया की मुक्ति है। कलयुग को अंधेरे के युग के रूप में माना जाता है, जहां लोगों द्वारा धर्म और विश्वास को नजरअंदाज कर दिया जाता है और वे भौतिकवादी महत्वाकांक्षा और लालच में अपने उद्देश्य को भूल जाते हैं।
  • ऐसा माना जाता है कि विभिन्न भ्रष्ट राजाओं की हत्या के बाद, भगवान कल्कि मनुष्यों के दिलों में भक्ति का भाव जगाएंगे। लोग धार्मिकता के मार्ग और शुद्धता के युग का पालन करना शुरू कर देंगे और विश्वास फिर से वापस आ जाएगा।

अनुष्ठान

कल्कि जयंती के विभिन्न अनुष्ठान होते हैं, जैसे-

  • इस जयंती के त्यौहार पर लोग पूरे दिन उपवास रखते हैं।
  • भगवान विष्णु का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए विभिन्न मंत्रों का जप करते हैं, जैसे- नारायण मंत्र, विष्णु सहस्रनाम और अन्य मन्त्रों का 108 बार जाप।
  • उपवास प्रारम्भ करते हुए श्रद्धालु बीज मंत्र का जाप करते हैं और उसके बाद पूजा करते हैं।
  • देवताओं की मूर्तियों को जल के साथ-साथ पंचामृत से भी धोया जाता है।
  • भगवान विष्णु के विभिन्न नामों का जप किया जाता है।
  • कल्कि जयंती के दिन ब्राह्मणों को भोजन दान करना महत्वपूर्ण है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

अन्य संबंधित लिंक

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. बिना अवतार लिए ही हर साल इस देवता की क्यों मनाई जाती है जयंती (हिंदी) amarujala.com। अभिगमन तिथि: 16 अगस्त, 1018।
  2. कल्कि जयंती के बारे में (हिंदी) hindi.mpanchang.com। अभिगमन तिथि: 16 अगस्त, 1018।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कल्कि_जयंती&oldid=634558" से लिया गया