उद्दालक व्रत  

Disamb2.jpg उद्दालक एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- उद्दालक (बहुविकल्पी)

उद्दालक व्रत पौराणिक धर्म ग्रंथों और हिन्दू मान्यताओं के अनुसार सोलह वर्ष की अवस्था होने पर किया जाता है। जिसे गायत्री की दीक्षा न मिली हो, उसे यही व्रत करना पड़ता है।[1]

  • इस व्रत में दो महीने जौ, एक महीने दूध, दही का शर्वत, आठ रात घी और छ: रात बिना माँगे पदार्थ पर निर्भर रहना पड़ता है।
  • इसके पश्चात् तीन रात्रि केवल जल पीकर ही 24 घण्टे का उपवास करने का विधान है।[2]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. पौराणिक कोश |लेखक: राणाप्रसाद शर्मा |प्रकाशक: ज्ञानमण्डल लिमिटेड, आज भवन, संत कबीर मार्ग, वाराणसी |पृष्ठ संख्या: 60 |
  2. प्रायश्चितप्रदीप, कृत्यप्रदीप, शुद्धिप्रदीप=आचार्य कृष्णमिश्र

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=उद्दालक_व्रत&oldid=596124" से लिया गया