अनसुनी करना  

अनसुनी करना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ- किसी की प्रार्थना, विनती, बात आदि पर ध्यान ही न देना फलत: उसे उपेक्ष्य समझना।

प्रयोग-

  1. वह माँ की सुनता पत्नि की अनसुनी करता था। (राजा राधिका रमण प्रसाद सिंह )
  2. शरीर भरा भरा था जो वयस के वार्धक्य से शिथिल होकर कहीं कहीं सामान्य परतों में झूलने भी लगा था, किंतु चेहरे की दीप्ति ने बढ़ती वयस की स्पष्ट पदचाप सुनकर भी अनसुनी कर दी थी। (शिवानी)
  3. वे सारी बातें रामपत के कानों में पड़ती तो वें अनसुनी कर जाते। (अजित पुष्कल)

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अनसुनी_करना&oldid=624052" से लिया गया