आँख गड़ना  

आँख गड़ना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ-

  1. आँख में सूजन तथा लाली के फलस्वरूप पीड़ा होना।
  2. एकटक नजर लगी होना।
  3. दूसरों की चीज पर (उठा, हथिया या चुरा लेने के उद्देश्य से) ध्यान केंद्रित होना।


प्रयोग- भगवान के चरणों में उनकी आँख गड़ी थी।

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आँख_गड़ना&oldid=623880" से लिया गया