आँख होना  

आँख होना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

  1. आँख होना (किसी को)
  2. आँख होना (किसी वस्तु पर)
  3. आँख होना (किसी व्यक्ति पर)


(1.) आँख होना (किसी को)

अर्थ - अभिमान या घमंड होना, परख होना।
प्रयोग -

  • पैसे देखे तो आँख हो गई। - (प्रेमचंद)
  • जिन्हें आँख होगी वही तो इस रत्न का मूल्य आँकेंगे।


(2.) आँख होना (किसी वस्तु पर)

अर्थ - किसी की कोई वस्तु प्राप्त करने की उत्कट इच्छा होना।
प्रयोग - जमींदार के घर लोगों की आँख उस वस्तु पर है।- (प्रेमचंद)


(3.) आँख होना (किसी व्यक्ति पर)

अर्थ - किसी व्यक्ति की गतिविधि पर ध्यान रखना।
प्रयोग -

  • पुलिस की इन पर आँख है।
  • वही अकेला उस पर नहीं मरता था, शहर के दूसरे गुंडों की भी आँख थी। - (अश्क)



टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आँख_होना&oldid=623889" से लिया गया