गोल कर जाना  

गोल कर जाना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ-

  1. कोई चीज़ कहीं से चुरा लेना या हटा-बढ़ा देना; जैसे- उसने मिनटों में मेरी घड़ी गोल कर दी।
  2. किसी बात या विचार को जान-बूझकर उड़ा देना; जैसे- आशिष ने मुझे निरुत्तर कर दिया था। लेकिन साथ साथ वह असली बात को भी गोल कर गया था। -श्रवणकुमार।

प्रयोग- महाराज जी तो पिछ्ले आठ दिन से आश्रम में से गोल हैं।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=गोल_कर_जाना&oldid=625120" से लिया गया