कहावत लोकोक्ति मुहावरे-घ  

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र
कहावत लोकोक्ति मुहावरे अर्थ
1- घर में नहीं हैं दाने और अम्मा चली भुनाने। अर्थ - झूठी शान दिखाना, न होने पर ढोंग करना।
2- घड़ी में घर जले, अढ़ाई घड़ी भद्रा। अर्थ - संकट को होशियारी से दूर करें।
3- घड़ी में तोला, घड़ी में माशा। अर्थ - चंचल मन वाला।
4- घर आए कुत्ते को भी नहीं निकालते। अर्थ - घर में आने वाले का सत्कार करना चाहिए।
5- घर का जोगी जोगना, आन गाँव का सिद्ध। अर्थ - अपने घर में योग्यता का आदर नहीं होता और बाहर का व्यक्ति योग्य समझा जाता है।
6- घर का भेदी लंका ढाए। अर्थ - घर की फूट का परिणाम बुरा होता है।
7- घर की खांड़ किरकिरी, लगे पड़ोसी का गुड़ मीठा। अर्थ - अपनी वस्तु़ ख़राब लगती है और दूसरे की अच्छी।
8- घर की मुर्गी दाल बराबर। अर्थ - अपनी चीज़ या अपने आदमी की क़दर नहीं होती।
9- घर खीर तो, बाहर खीर। अर्थ - अपने पास कुछ हो तो, बाहर भी आदर होता है।
10- घर का घोड़ा, नखास मोल। अर्थ - चीज़ घर में पड़ी है और उसकी कोई कीमत नहीं है।
11- घायल की गति घायल जाने। अर्थ - जो कष्ट भोगता है वही दूसरों का कष्ट समझता है।।
12- घी कहाँ गया ? खिचड़ी में। अर्थ - वस्तु का प्रयोग ठीक जगह हो गया।
13- घी सँवारे काम, बड़ी बहू का नाम। अर्थ - काम तो साधन से हुआ, नाम करने वाले का हो गया।
14- घोड़ा घास से यारी करेगा तो खाएगा क्या। अर्थ - पेशेवर को किसी की से रियायत नहीं करनी चाहिए।
15- घोड़े की दुम बढ़ेगी तो अपनी ही मक्खियाँ उड़ाएगा। अर्थ - उन्नति करके आदमी अपना ही भला करता है।
16- घोड़े को लात, आदमी को बात। अर्थ - उत्तम वस्तु थोड़ी भी हो तो अच्छी है।।
17- घडियाँ गिनना। अर्थ - बेचैनी से प्रतीक्षा करना।
18- घड़ों पानी पड़ जाना। अर्थ - बहुत शर्मिंदा होना।
19- घर काट खाने को आना/घर काटने का दौड़ना। अर्थ - अकेलापन अखरना।
20- घर का न घाट का। अर्थ - कहीं का भी नहीं रहना।
21- घर फूँक तमाशा देखना। अर्थ - अपनी हानि करके मौज उड़ाना।
22- घर में गंगा बहना। अर्थ - अच्छी चीज़ पास ही में मिल जाना।
23- घाव पर नमक छिड़कना। अर्थ - दु:खी को और दु:खी करना।
24- घाव हरा करना। अर्थ - भूले हुए दु:ख की याद दिलाना।
25- घास काटना। अर्थ - फूहड़ काम करना। ।
26- घास छीलना। अर्थ - व्यर्थ समय गवाँना।।
27- घिग्घी बँधना। अर्थ - स्पष्ट बोल न सकना।
28- घी घना मुट्ठी चना। अर्थ - जो मिल जाए उसी पर संतुष्ट रहना चाहिए।
29- घी के दिये जलना। अर्थ - आनंद मंगल होना, खुशियाँ मनाना।
30- घी खिचड़ी होना। अर्थ - खूब मिल- जुल जाना।।
31- घोंघा बसंत। अर्थ - मूर्ख होना।
32- घोड़े बेचकर सोना। अर्थ - निश्चिंत हो जाना।
33- घँघोल डालना। अर्थ - गँदला या गंदा कर देना।
34- घंटा दिखाना। अर्थ - ऐसा उत्तर देना या मुद्रा बनाना जिससे आवेदक या इच्छुक पूरी तरह से निराश हो जाए।
35- घंटा हिलाना अर्थ - व्यर्थ बैठे रहना, व्यर्थ का काम करना।
36- घट घट में बसना अर्थ - हर एक में व्याप्त होना।
37- घंटे मोरछल से उठाना। अर्थ - गाजे-बाजे के साथ किसी भाग्यवान की अर्थी निकालना।
38- घड़ियाँ गिनना अर्थ -अत्यंत उत्सुकतापूर्वक प्रतीक्षा करना, मरणासन्न होना, मृत्यु की इंतजार में होना।
39- घड़ी टेढ़ी होना अर्थ - समय विपरीत होना।
40- घड़ी दो घड़ी का अर्थ - कुछ ही क्षणों का।
41- घड़ी पहाड़ हो जाना अर्थ - थोड़ा समय भी न बीतना
42- घड़ो पानी पड़ना अर्थ - लोगों के सामने हेय या हीन सिद्ध होने पर अत्यन्त लज्जित होना।
43- घपले में पड़ना/पड़ जाना अर्थ - खटाई में पड़ना, भ्रमित होना।
44- घबरा उठना अर्थ - बेचैन होना।
45- घमंड में चूर अर्थ - घमंड से ओतप्रोत।
46- घर आँगन हो जाना अर्थ - घर का टूट-फूट कर खँडहर या मैदान हो जाना
47- घर उजड़ना/उजाड़ देना अर्थ - गृहस्थी चौपट होना।
48- घर कर लेना अर्थ - अपनी स्थायी निवास बना लेना।
49- घर का आदमी अर्थ - परिवार का सदस्य, घनिष्ठ मित्र अथवा संबंधी।
50- घर का रास्ता समझना। अर्थ - सुगम और सुपरिचित समझना।
51- घर के घर अर्थ - घर की सीमा में ही, आपस में ही।
52- घर के घर रह जाना अर्थ - ऐसी स्थिति में होना कि व्यापार, लेन देन आदि में न लाभ हो न हानि।
53- घर ख़ाली छोड़ना। अर्थ - वर करते हुए भी आघात या प्रहार न करना, बल्कि जान बूझकर ख़ाली जाने देना।
54- घर खोद डालना अर्थ - बार बार किसी के घर जाकर उसे परेशान करना।
55- घर जमाना। अर्थ - घर गृहस्थी के लिए आवश्यक वस्तुएँ लाना।
56- घर तक पहुँचना अर्थ - किसी को माँ बहन तक की गालियाँ देना।
57- घर में चूल्हा न जलना अर्थ - रसोई न बनना। इन्हीं परेशानियों के कारण हमारे यहाँ दो दिन चूल्हा तक नहीं जला।
58- घर में झाड फिरना/फिर जाना अर्थ - घर में कुछ भी न रह जाना।
59- घर फूँक तमाशा देखना अर्थ - घर गृहस्थी चौपट या नष्ट करना।
60- घर बचाना अर्थ - अपने कौशल या चातुराई से प्रहार या बात विफल करना।
61- घर बनाना। अर्थ - घर में सुख सुविधाओं की व्यवस्था करना।
62- घर फोड़ना। अर्थ - परिवार के लोगों में परस्पर झगड़ा लगाकर उनमें फूट डालना।
63-घर बोलने लगना अर्थ - घर में चहल पहल होने लगना।
64-घर बैठे अर्थ - बिना दौड धूप या प्रयास किए।
65- घर लुटाना अर्थ - घर की सम्पत्ति गँवाना या व्यर्थ खर्च करना।
66- घर सिर पर उठाना/उठा लेना अर्थ - बहुत अधिक शोर मचाना या हो हल्ला करना।
67- घर जमाई बनना अर्थ - दामाद का ससुराल में जाकर रहना।
68-घर द्वार देखना अर्थ - गृहस्थी सँभालना और उसकी रक्षा करना।
69- घरवाली। अर्थ - पत्नी।
70- घर्राटा मारना/लेना। अर्थ - खूब गहरी नींद सोना।
71- घसीटना अर्थ - उलझाना।
72- घाट घाट का पानी पीना अर्थ - अनेक स्थलों अथवा उनके निवासियों का रंग-ढंग देखे होना, उनके सम्पर्क या सहवास में आये होना अथवा विविध अनुभव प्राप्त किए होना अनुभवी होना
73- घाट नहाना। अर्थ - किसी के मरने पर नदी पर नहाना।
74- घाट लगना। अर्थ - नदी आदि के किनारे नाव का खड़ा होना।
75- घाटा उठाना/आना/ पड़ना अर्थ - व्यापार में हानि होना, नुक्सान होना, कमी होना।
76- घाटा भरना/भर देना अर्थ - क्षतिपूर्ति करना।
77- घात ताकना। अर्थ - उपयुक्त अवसर की ताक में रहना।
78- घात में पड़ना अर्थ - ऐसी स्थिति में किसी का आना कि उस पर सहज में वार किया जा सके, फँसना, घिरना।
79- घाम का जाना अर्थ - तेज़ धूप के कारण सूखना या काला पड़ना।
80- घाम खाना अर्थ - सरदी से बचने के लिए धूप में बैठना।
81-घाम बचाना। अर्थ - विपत्ति या संकट से स्वयं बचना या किसी को बचाना।
82- घाम लगना। अर्थ - लू लगना।
83- घाव खाना। अर्थ - आघात या प्रहार सहने के कारण घायल होना।
84- घाव खाना। अर्थ - आघात या प्रहार सहने के कारण घायल होना।
85- घाव पर नमक छिड़कना अर्थ - दुखी व्यक्ति को और अधिक यंत्रणा देना।
86- घाव पुजना/भरना। अर्थ - क्षत या घाव के भरने के समय अंकुर निकलना।
87- घाव हरा होना/ हो जाना अर्थ - कष्ट या दु:ख की घड़ी याद आना और फलतः वही पुराना कष्ट या दु:ख अनुभूत करना।
88- घास खाए होना। अर्थ - दिमाग में घास भरी होने के कारण बेवकूफ़ी की बातें करना।
89- घास छीलना/खोदना। अर्थ - तुच्छ या बेकार हो जाना।
90- घिग्घी बँधना/बँध जाना अर्थ - भय से आतंकित हो जाने के कारण कंठ का अवरुद्ध हो जाना।
91- घिरनी खाना। अर्थ - चारो और चक्कर खाना।
92- घी का कुप्पा लुढ़कना। अर्थ - किसी धनी आदमी का मरना, बहुत बड़ी हानि होना।
93- घी के कुप्पे से लगना अर्थ - किसी ऐसे व्यक्ति का आश्रय प्राप्त होना जिसके फलस्वरूप बहुत अधिक लाभ हो।
94- घी खिचड़ी होना। अर्थ - परस्पर अत्यधिक घनिष्ठता या मेल जोल होना।
95- घी बरसाना। अर्थ - आग में तेल डालना, झगड़े को और बढ़ाना।
96- घुंघरू बाँधना। अर्थ - नाचने के लिए तैयार होना।
97- घुघरू बोलना। अर्थ - मरने के समय गले से घुर घुर शब्द निकलना।
98- घुट घुटकर मरना अर्थ - बराबर एक पर एक कष्ट भोगते हुए मरना।
99- घुटते रहना अर्थ - छमित इच्छाओं के कारण पीडि़त रहना।
100- घुटना अर्थ - घनिष्ठता होना।
101- घुटने टेकना/टेक देना अर्थ - हार मान लेना, आत्मसमर्पण कर देना।
102- घुटा निकलना अर्थ - छिपा रूस्तम या बहुत होशियार निकलना।
103- घुटटी में पड़ना। अर्थ - बचपन से आदत पड़ी होना, स्वभाव होना।
104- घुन की तरह चाट जाना अर्थ - अन्दर ही अन्दर खा जाना या नष्ट कर डालना।
105- घुन लगना/लग जाना। अर्थ - किसी ऐसे दोष, रोग या चिंता से ग्रस्त होना जो जानलेवा सिद्ध हो रही हो।
106- घुल घुलकर बातें करना अर्थ - ख़ूब प्रेम से बातें करना।
107- घुल मिल जाना अर्थ - एक हो जाना।
108- घुला घुलाकर मारना। अर्थ - ऐसी स्थिति उत्पन्न करना कि कोई बराबर कष्ट भोगता मर जाए।
109- घुलाना अर्थ - ऐसा काम करना कि जिससे कोई घुल घुलकर क्षीण हो जाए।
110- घुसकर बैठना अर्थ - किसी के साथ सटकर बैठना, अथवा किसी की आड़ में छिपकर बैठना।
111- घूँघट करना अर्थ - न करना, स्त्री का अपने चेहरे का पल्ले से ढ़कना।
112- घूँघट उठाना। अर्थ - स्त्री का किसी के सम्मुख पर्दा।
113- घूँट जाना अर्थ - पी जाना, चुपचाप सहन कर लेना।
114- घूम पड़ना अर्थ - आवेश या क्रोध में आकर किसी दूसरे से बातें करने लगना।
115- घेर घार करना अर्थ - अनुचित दबाव डालना तथा विवश करना।
116-घोटाले मे पड़ना। अर्थ - धन आदि का ऐसी स्थिति में होना कि उसकी वसूली होने की संभावना क्षीण हो।
117- घोड़ा उठाना। अर्थ - घोड़े को तेज दौड़ाना।
118- घोड़ा उलाँगना। अर्थ - किसी नए घोड़े पर पहले-पहले सवारी करना।
119- घोड़ा खोलना। अर्थ - घोड़े का साज खोलना।
120-घोड़ा निकालना। अर्थ - घोड़े को सवारी के योग्य बनाना।
121- घोड़े पर चढ़े चले आना अर्थ - कहीं पहुँचते ही वहाँ से चलने की रट लगाने लगना।
122- घोल कर पी जाना अर्थ - अस्तित्व ही न रहने देना।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कहावत_लोकोक्ति_मुहावरे-घ&oldid=623672" से लिया गया