कन्नी काटना  

कन्नी काटना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ- सामने ना पड़ना, कतरा कर निकल जाना, किसी का सामना न करना, उससे दूर ही दूर रहना।


प्रयोग-

  1. जब आप मामूली शिष्टाचार से अधिकारियों का सहयोग प्राप्त कर सकते हैं, तो क्यों उनसे कन्नी काटते हैं। - (प्रेमचंद)
  2. देवर-देवरानी पहले ही कन्नी काटकर न्यारे हो चुके थे। - (शिवानी)


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र
"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कन्नी_काटना&oldid=624348" से लिया गया