आँख से ओझल होना  

आँख से ओझल होना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ- दृष्टि-क्षेत्र परे चले जाना।

प्रयोग-

  1. लिखते समय ध्यान सदा अच्छेपन की ओर रहना चाहिए। सुधार का तत्व कभी आँखों से ओझल नहीं होना चाहिए।-(रामचंद्र वर्मा)
  2. मैं तो चाहती हूँ कि इंद्र मेरी आँखों से ओझल न हो।- (जयशंकर प्रसाद)
  3. पुराने माडल की डॉज कार के आँखों से ओझल होते ही पुलिस की जीपगाड़ी वहाँ आ पहुँची।-(गुलशन नंदा)

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आँख_से_ओझल_होना&oldid=624311" से लिया गया