आना-जाना  

आना-जाना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ - एक-दूसरे के यहाँ बराबर मिलने के लिए आते-जाते रहना।
प्रयोग - दोनों परिवारों में आना-जाना इतना ज्यादा बढ़ गया है कि दूसरे का हाल जाने बिना चैन नहीं पड़ता। - (गिरिधर गोपाल)


अर्थ - सूझना
प्रयोग - मन में इस वक्त कुछ भी आ-जा नहीं रहा था। - (कमलेश्वर)


अर्थ - जनमना और मरना
प्रयोग - दुनिया यों ही चलती रही है, चलती रहेगी; किसी के आने-जाने से कोई ख़ास फ़र्क नहीं पड़ता। - (गिरिधर गोपाल)


अर्थ - नफ़ा-नुकसान, हानि-लाभ
प्रयोग - बस आए दिन टंटा। ...ख़ैर, जाने दीजिए, जब तकदीर ही काले पानी को सज़ा दे रही है तो फिर किसी तदबीर से क्या आना-जाना। - (राजा राधिका रमण प्रसाद सिहं)

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आना-जाना&oldid=623925" से लिया गया