आँखें फटी की फटी रह जाना  

आँखें फटी की फटी रह जाना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ- भौचक्का होकर देखते रह जाना।

प्रयोग-

  1. गोलक दा की पत्नी के मुँह से मैंने जो कुछ सुना, उससे तो मेरे आँख फटी की फटी रह् गई थी। - (वीरेंद्र मंडल)
  2. आखिर एक दिन सबकी आँखें फटी रह गईं जब पता चला कि तमाम नवाबों, राजाओं वगैरह की कोशिशें बेकार चली गईं, उनकी जगह अट्ठारह साल के एक सजीले नौजवान ने बाज़ी मार ली है। - (कमलेश्वर)


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आँखें_फटी_की_फटी_रह_जाना&oldid=623804" से लिया गया