कहावत लोकोक्ति मुहावरे-प  

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र
कहावत लोकोक्ति मुहावरे अर्थ
1- पंच कहे बिल्ली तो बिल्ली‍ ही सही। अर्थ - सर्वसम्मति से जो काम हो जाए, वही ठीक।
2- पंचों का कहना सिर माथे, पर परनाला वहीं रहेगा। अर्थ - दूसरों की सुनकर भी अपने मन की करना।
3- पकाई खीर पर हो गया दलिया। अर्थ - दुर्भाग्य।
4- पगड़ी रख,घी चख। अर्थ - मान–सम्मान से ही जीवन का आनंद है।
5- पढ़े तो हैं गुने नहीं। अर्थ - पढ़- लिखकर भी अनुभवहीन।
6- पढ़े फारसी बेचे तेल,यह देखो करमों का खेल। अर्थ - गुणवान होने पर भी दुर्भाग्य से छोटा काम मिला है।
7- पत्थर को जोंक नहीं लगती। अर्थ - निर्मम आदमी पर कोई असर नहीं पड़ता।
8- पत्थर मोम नहीं होता। अर्थ - निर्मम आदमी में दया नहीं होती।
9- पराया धर थूकने का भी डर। अर्थ - दूसरे के घर में संकोच रहता है।
10- पराये धन पर लक्ष्मी नारायण। अर्थ - दूसरे के धन पर गुलछर्रे उड़ाना।
11- पहले तोलो, पीछे बोलो। अर्थ - बात समझ-सोचकर करनी चाहिए।
12- पाँच पंच मिल कीजे काजा, हारे-जीते कुछ नहीं लाजा। अर्थ - मिलकर काम करने पर हार-जीत की ज़िम्मेदारी एक पर नहीं आती।
13- पाँचों उँगलियाँ घी में। अर्थ - सब लाभ ही लाभ।
14- पाँचों उँगलियाँ बराबर नहीं होतीं। अर्थ - सब आदमी एक जैसे नहीं होते।
15- पाँचों सवारों में मिलना। अर्थ - अपने को बड़े व्यक्तियों में गिनना।
16- पागलों के क्या सींग होते हैं। अर्थ - पागल भी साधारण लोगों में होते हैं।
17- पानी पीकर जात पूछते हो। अर्थ - काम करने के बाद उसके अच्छे - बुरे पहलुओं पर विचार क्यों ?
18- पाप का घड़ा भरकर डूबता है। अर्थ - पाप जब बढ़ जाता है तब विनाश होता है।
19- पिया गए परदेश, अब डर काहे का। अर्थ - जब कोई निगरानी करने वाला न हो, तो मौज उड़ाना।
20- पीर बावर्ची भिस्ती खर। अर्थ - सब तरह का काम एक को करना पड़ता है।
21- पूत के पाँव पालने में पहचाने जाते हैं अर्थ - भविष्य क्या होगा, उसे वर्तमान के लक्षणों से जाना जा सकता है।
22- पूत सपूत तो काहे धन संचै, पूत कपूत तो काहे धन संचै। अर्थ - धन का संचय अच्छा, नहीं।
23- पूरब जाओ या पच्छिम, वही करम के लच्छन। अर्थ - भाग्य और स्वभाव सब स्थान साथ रहता है।
24- पेड़ फल से जाना जाता है। अर्थ - कर्म का महत्त्व उसके परिणाम से होता है।
25- पैसा गाँठ का, ज़ोरू साथ की। अर्थ - अपने पास पैसा और पत्नी हो तो जीवन सुखी रहता है।
26- प्यासा कुएँ के पास जाता है अर्थ - जिसे गरज़ होती है वही दूसरों के पास जाता है।।

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=कहावत_लोकोक्ति_मुहावरे-प&oldid=624064" से लिया गया