आग लगाना  

आग लगाना एक प्रचलित लोकोक्ति अथवा हिन्दी मुहावरा है।

अर्थ-

  1. दो घरों, पक्षों, दलों आदि में बहुत बड़ा झगड़ा खड़ा करना जिससे वे परस्पर शत्रुवत् व्यवहार करने लगें।
  2. ऐसी बात कहना या काम करना जिससे कोई क्रोध से भड़क उठे।


प्रयोग-

  1. मामा ने जो आग लगा दी है वह मेरे बुझाए नहीं बुझ सकती। - (प्रेमचंद)
  2. एक तो ऐसे ही दिमाग गरम है, ऊपर से तू उलटा-सीधा बोलकर और भी आग लगा देती है। - (सरोजिनी वर्मा)

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

कहावत लोकोक्ति मुहावरे वर्णमाला क्रमानुसार खोजें

                              अं                                                                                              क्ष    त्र    श्र

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"https://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=आग_लगाना&oldid=624144" से लिया गया