अंगज  

अंगज कामदेव का एक नाम है जो स्त्री-पुरुष संयोग की प्रेरणा करने वाला एक पौरणिक देवता माना गया।

  • रति इसकी स्त्री, बसन्त इसका साथी तथा कोकिल वाहन है।
  • अंगज का शस्त्र धनुण (फूलों का बना) है। उन्मादन, शोषण, तापन, संमोहन और स्तंभन इसके पाँच वाण कहे गये है।
  • देवाताओं ने इसे शंकर की समाधि भंग करने के लिए भेजा था। मना करने पर भी जब ये नहीं माना, तब योगिराज शंकर ने इसे जलाकर भस्म कर दिया। तबसे काम देव का नाम अंनग पड़ा।[1]। तदुपरान्त रति के विलाप तथा प्रार्थना से प्रसत्र हुए शंकर के वरदान से इसका जन्म श्री कृष्ण के पुत्र प्रद्युम्न के घर द्वार का में हुआ। प्रद्युम्न-सत अनिरुद्ध को अवतार कहा गया है।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. (भाग-.3.12.29, मत्स्य 7.23,23.30,154.272,291.32, वायु 104.48)

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अंगज&oldid=545212" से लिया गया