पंचशिख (ऋषि)  

Disamb2.jpg पंचशिख एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- पंचशिख (बहुविकल्पी)

पंचशिख पाँच शिखाओं (चोटियों) वाले एक ऋषि थे। इनका एक नाम 'कपिलेय' भी था।

  • ये महामुनि आसुरी के शिष्य थे।
  • इन्होंने ब्राह्मण पत्नी कपिला के स्तन का दुग्ध पान किया था, इसीलिए ‘कपिलेय’ कहलाये।
  • पंचशिख ऋषि ने जनक को उपदेश दिया और धर्म का मार्ग बताया, और साथ ही विश्वावसु को भी धर्मोपदेश दिया।[1]


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

भारतीय संस्कृति कोश, भाग-2 |प्रकाशक: यूनिवर्सिटी पब्लिकेशन, नई दिल्ली-110002 |संपादन: प्रोफ़ेसर देवेन्द्र मिश्र |पृष्ठ संख्या: 461 |

  1. महाभारत, शांतिपर्व, अध्याय 218-219, 320-321

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=पंचशिख_(ऋषि)&oldid=247729" से लिया गया