व्रजन  

व्रजन का उल्लेख हिन्दू पौराणिक महाकाव्य महाभारत में हुआ है, जो कि केशिनी के पुत्र थे।

  • राजा सुहोत्र का विवाह ऐक्ष्‍वाकी से हुआ था।
  • ऐक्ष्‍वाकी ने अजमीढ़, सुसीढ तथा पुरुमीढ नामक तीन पुत्रों को जन्‍म दिया। उनमें अजमीढ़ ज्‍येष्ठ थे। उन्‍हीं पर वंश की मर्यादा टिकी हुई थी।
  • अजमीढ़ ने भी तीन स्त्रियों से विवाह किया था। तीनों स्त्रियों के गर्भ से छ: पुत्रों का जन्म हुआ था।
  • इनकी धूमिनी नाम वाली स्त्री ने ॠक्ष को, नीली ने दुष्‍यन्‍त और परमेष्ठी को तथा केशिनी ने जह्र, व्रजन तथा रूपिण इन तीन पुत्रों को जन्‍म दिया था।
  • इनमें दुष्‍यन्‍त और परमेष्ठी के सभी पुत्र पाञ्चाल कहलाये थे।
  • अमित तेजस्‍वी जह्र के वंशज कुशिक नाम से प्रसिद्ध हुए। व्रजन तथा रूपिण के ज्‍येष्ठ भाई ॠक्ष को राजा कहा गया है।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

महाभारत आदि पर्व |लेखक: साहित्याचार्य पण्डित रामनारायणदत्त शास्त्री पाण्डेय 'राम' |प्रकाशक: गीताप्रेस, गोरखपुर |संकलन: भारत डिस्कवरी पुस्तकालय |पृष्ठ संख्या: 286 |


टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=व्रजन&oldid=548947" से लिया गया