अदुःख नवमी  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • भाद्रपद शुक्ल की नवमीं को पार्वती जी की पुजा की जाती है।[1]
  • यह व्रत सब के लिए, किन्तु विशेषतः, नारियों के लिए होता है।
  • बंगाल में इसे स्त्रियाँ अवैधव्य के लिए करती हैं।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. व्रतराज (332–337; स्कन्द से उद्धरण

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अदुःख_नवमी&oldid=188220" से लिया गया