हरकाली व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • माघ शुक्ल पक्ष की तृतीया हरकालीव्रत किया जाता है।
  • हरकालीव्रत तिथिव्रत हैं।
  • हरकालीव्रत में देवता देवी की पूजा की जाती है।
  • हरकालीव्रत स्त्रियों के लिए होता है।
  • जौ के हरे अंकुरों पर स्थापित उमा के रात्रि भर ध्यान में अवस्थित रहना चाहिए।
  • दूसरे दिन प्रात: स्नान, देवी पूजा एवं भोजन करना चाहिए।
  • 12 मासों में देवी के विभिन्न नामों का उपयोग तथा विभिन्न पदार्थों का सेवन करना चाहिए।
  • अन्त में एक सपत्नीक ब्राह्मण को दान देना चाहिए।
  • ऐसी मान्यता है कि हरकालीव्रत से रोगों से मुक्ति मिल जाती है।
  • सात जन्मों तक सधवापन, पुत्र, सौन्दर्य आदि की प्राप्ति होती है।
  • पार्वती ने शंकर की आधी देह पाने के लिए हरकालीव्रत व्रत किया था।


पन्ने की प्रगति अवस्था
आधार
प्रारम्भिक
माध्यमिक
पूर्णता
शोध

टीका टिप्पणी और संदर्भ

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=हरकाली_व्रत&oldid=142025" से लिया गया