मंगल व्रत  

Disamb2.jpg मंगल एक बहुविकल्पी शब्द है अन्य अर्थों के लिए देखें:- मंगल (बहुविकल्पी)
  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • आश्विन की कृष्ण अष्टमी पर यह व्रत किया जाता है।
  • माघ, चैत्र या श्रावण में भी यह व्रत किया जाता है।
  • यह आगे की शुक्लाष्टमी तक की जाती है।
  • अष्टमी को एकभक्त; कुमारियों तथा देवी भक्तों को भोजन कराया जाता है।
  • नवमी को नक्त, दशमी को अयाचित तथा एकादशी को उपवास किया जाता है।
  • बार-बार करना; प्रतिदान दान, होम, जप, पूजा, एक कुमारियों को भोजन कराया जाता है।
  • पशु बलि, नृत्य, नाटक एवं संगीत से जागरण किया जाता है।
  • देवी के 18 नामों का जाप किया जाता है।[1]

 

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रत0 2, 332-335, देवीपुराण से उद्धरण

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=मंगल_व्रत&oldid=189012" से लिया गया