भद्रकाली व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा पर प्रारम्भ होता है।
  • उस दिन उपवास; देवता; भद्रकाली (देवी भवानी) का पूजन किया जाता है।
  • व्रत में एक वर्ष तक प्रति मास नवमी पर पूजा की जाती है।
  • अन्त में किसी ब्राह्मण को दो वस्त्रों का दान करना चाहिए।
  • यह व्रत रोग मुक्ति, पुत्रों एवं यश की प्राप्ति के लिए किया जाता है।[1]
  • आश्विन शुक्ल नवमी पर किया जाता है।
  • दीवार या वस्त्र पर भद्रकाली का चित्र बना कर।
  • उनके आयुधों एवं ढाल की पूजा की जाती है।
  • नवमी को उपवास एवं भद्रकाली की पूजा की जाती है।
  • ऐसी मान्यता है कि समृद्धि एवं सफलता की प्राप्ति होती है।[2]; [3]; [4]
  • ब्रह्म पुराण[5] में, जहाँ भद्रकाली को मदिरा एवं मांस दिये जाने का भी उल्लेख है।

 



टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. हेमाद्रि (व्रत0 1, 960, विष्णुधर्मोत्तरपुराण 3|175|1-5 से उद्धरण
  2. हेमाद्रि (व्रत0 1, 960-62, विष्णुधर्मोत्तरपुराण, 2|158|1-8 से उद्धरण
  3. कृत्यरत्नाकर (350
  4. व्रतराज (337-338
  5. ब्रह्मपुराण (181|46-53

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=भद्रकाली_व्रत&oldid=188742" से लिया गया