हिम पूजा  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • पुष्पों एवं दूध के नैवेद्य से चन्द्र, विष्णु के वाम नेत्र की पूर्णिमा पर पूजा की जाती है।
  • गायों को नमक देना चाहिए।
  • माता, बहिन, पुत्री को नये वस्त्रों से सम्मानित करना चाहिए।
  • यदि हिमालय के पास हों तो पितरों को हिम से मिश्रित मधु, तिल एवं घी देना चाहिए और जहाँ घी न हो 'हिम-हिम' का उच्चारण करना चाहिए तथा ब्राह्मणों को घृतपूर्ण माष का भोजन देना चाहिए।
  • गीतों एवं नृत्य के साथ उत्सव तथा श्यामा देवी की पूजा करनी चाहिए।
  • सुरा पीने वालों को ताजी सुरा दी जाती है।[1]


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कृत्यरत्नाकर (471-472, ब्रह्म पुराण से उद्धरण

संबंधित लेख

"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=हिम_पूजा&oldid=189421" से लिया गया