सप्तसप्तमीकल्प  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • यह व्रत शुक्ल पक्ष में किसी रविवार को करना चाहिए।
  • जब सूर्य उत्तरायण का आरम्भ करता है और जब कोई पुरुष नक्षत्र होता है, सभी सात सप्तमियों पर ब्रह्मचर्य पालन, नक्तविधि द्वारा करना चाहिए।
  • सात सप्तमियों पर इस प्रकार है– अर्कसम्पुट, मरिच, निम्ब, फल, अनोदना, विजया एवं कामिकी। पाँचवीं पर एकभक्त तथा छठी पर संभोगवर्जन एवं मधु तथा मांस का त्याग करना चाहिए।
  • पत्तों पर सात नाम लिखकर, एक घट में डालकर किसी बच्चे से (जो कि इन सात नामों के अर्थ को नहीं जानता) एक पत्ता निकलवाना और उसे सातवीं सप्तमी मानना।
  • यह एक वर्ष तक करना चाहिए।
  • इस व्रत के करने से सभी आकांक्षाओं की पूर्ति होती है एवं सूर्यलोक तक पहुँच जाते हैं।[1]

 

टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. कृत्यकल्पतरु (व्रतखण्ड 189-191); हेमाद्रि (व्रतखण्ड 1, 687-689, भविष्य पुराण 1|208|2-32 से उद्धरण)।

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=सप्तसप्तमीकल्प&oldid=141891" से लिया गया