अनङ्‌गदान व्रत  

  • भारत में धार्मिक व्रतों का सर्वव्यापी प्रचार रहा है। यह हिन्दू धर्म ग्रंथों में उल्लिखित हिन्दू धर्म का एक व्रत संस्कार है।
  • हस्त, पुष्य या पुनर्वस के साथ रविवार के दिन 13 महीने तक, वेश्याओं के लिए, विष्णु एवं कामदेव की पूजा करनी चाहिये।
  • वेश्या रविवार को 'क इदं कस्मा अदात् कामः....आदि' का पाठ करती है।[1]
  • कृत्यकल्पतरु[2]जहाँ इसे वेश्यादित्याड़्गदानव्रत कहा गया है।


टीका टिप्पणी और संदर्भ

  1. अथर्ववेद (3|29|7), तैत्तिरीय ब्राह्मण (2|2|5|5–6), आपस्तम्ब श्रौत सूत्र (5|13, जहाँ कामस्तुति है), मत्स्य पुराण (अध्याय 70), पद्म पुराण (5|23|74–143), हेमाद्रि (व्रतखण्ड, 2, 544–548, पद्म पुराण से उद्धरण), कृत्यरत्नाकर (605–604; मत्स्य पुराण से उद्धरण)।
  2. कृत्यकल्पतरु (व्रतखण्ड, 27–31

संबंधित लेख

वर्णमाला क्रमानुसार लेख खोज

                              अं                                                                                                       क्ष    त्र    ज्ञ             श्र   अः



"http://bharatdiscovery.org/bharatkosh/w/index.php?title=अनङ्‌गदान_व्रत&oldid=188224" से लिया गया